सुबाथू छावनी के प्रवेशद्वार में साइन बोर्ड से छेड़छाड़

सुबाथू —छावनी परिषद सुबाथू में प्रवेश बैरियर में अधिकारी के आदेशानुसार लगाए गए साइन बोर्ड से छेड़छाड़ कर भारी वाहन चालकों से निर्धारित शुल्क से ज्याद शुल्क लेने का मामला समाने आया है। हैरानी की बात तो यह है कि छावनी परिषद सहित परिषद के उच्चाधिकारी भी इस बात से अनजान हंै। ऐसे में छावनी की कार्यप्रणाली पर सवाल उठने शुरू हो गए हंै। वाहन चालकों की मानें तो अप्रैल माह में छह टायर वाहनों से 90 रुपए व बस चालकों से 80 रुपए वसूले जाते थे। लेकिन अब मई माह में छह टायर वाहनों से 120 व बसों से 90 रुपए वसूले जा रहे हैं। हालांकि वर्ष 2017 से 2018 में छावनी अधिकारी के आदेशानुसार बैरियल पर लगाए गए साइन बोर्ड पर छह टायर वाहन का रेट 90 व बस का रेट 80 रुपए अंकित किया गया है। वहीं, परिषद के पार्षदों का कहना है कि बीते वर्ष वाले रेट ही इस वर्ष भी वाहन चालकों से लिए जा रहे हैं। हैरानी इस बात कि भी है कि प्रवेश बैरियल में छावनी अधिकारी के आदेशानुसार लगाए गए बोर्ड के साथ भी किसी ने छेड़खानी कर भारी वाहन चालकों को चपत लगाने के चक्कर में साइन बोर्ड से कुछ वाहनों के रेट भी गायब कर दिए  है। बता दें कि 24 घंटे चलने वाले इस बैरियल पर लगे साइन बोर्ड से किसने छेड़छाड़ की हैं उसकी सूई भी कहीं न कहीं बैरियल पर काम करने वाले कर्मचारियों पर ही घूम रही है। वहीं, छावनी परिषद के लिए भी एक बड़ा सवाल खड़ा हो रहा है की अधिकारी के आदेशानुसार लगाए गए साइन बोर्ड से छेड़छाड़ कर किसने उस बोर्ड से रेट गायब किए हैं। सैकड़ों वाहन चालकों से पिछले 26 दिनों से हो रही धांधली के चलते छावनी परिषद के कार्यालय की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े हो रहे है कि किस स्तर पर इतनी बढ़ी चूक हुई है। भारी वाहन चालक गणेश का कहना है कि पहले उनकी छह टायर गाड़ी के 90 रुपए लिए जाते थे परंतु पिछले कई दिनों से उसी गाड़ी के 120 रुपए लिए जा रहे हैं। छावनी अधीक्षक चिरंजी लाल का कहना है कि भारी वाहनों से 120 रुपए वसूलने का मामला उनके सामने अभी आया है। जिसे अगामी बोर्ड बैठक में रखा जाएगा। हालांकि परिषद के अनुसार पब्लिक नोटिस में जो रेट तय किए गए हंै उसी के आधार पर प्रवेश शुल्क लिए जा रहा है। छावनी उपाध्यक्ष दिनेश गुप्ता का कहना है कि इस बार बैरियल शुल्क में किसी प्रकार की बढ़ोतरी नहीं की गई है। जो रेट बीते वर्ष वाहन चालकों से लिया जाता था वही रेट इस बार भी लिए जा रहे है। उन्होंने कहा कि वाहन चालकों से अधिक शुल्क वसूलने की सूचना उन्हें मिली है। दिनेश गुप्ता ने कहा कि 28 मई को बोर्ड की बैठक है और उसमें इस विषय पर गंभीरता से चर्चा की जाएगी। जिस स्तर पर चूक हुई होगी उसके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

You might also like