सूरज हत्याकांड का ट्रायल शिमला से चंडीगढ़ ट्रांसफर

 शिमला -शिमला के कोटखाई गैंगरेप और मर्डर केस से जुड़े सूरज लॉकअप हत्याकांड का ट्रायल शिमला  से चंडीगढ़ ट्रांसफर कर दिया गया है। बहुचर्चित कोटखाई गैंगरेप मर्डर केस से जुड़े सूरज लॉकअप हत्याकांड मामले का ट्रायल सुप्रीम कोर्ट ने शिमला से चंडीगढ़ शिफ्ट किया है। जानकारी के अनुसार सूरज हत्याकांड के सभी नौ आरोपी पुलिस कर्मियों ने ट्रायल ट्रांसफर की याचना व्यक्त की थी। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने यह आदेश जारी किए हैं। पिछली सुनवाई में पूर्व आईजी जहूर जैदी को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली थी। सुप्रीम कोर्ट ने जहूर जैदी को जमानत दे दी थी। जैदी के अलावा इस मामले में शिमला के एसपी डीडब्ल्यू नेगी और ठियोग के पूर्व डीएसपी मनोज जोशी को जमानत मिल चुकी है, बाकी छह पुलिस कर्मी अब भी जेल में हैं। बता दें कि चार जुलाई, 2017 को कोटखाई की एक छात्रा स्कूल से लौटते वक्त लापता हो गई  थी। इसके बाद छह जुलाई को कोटखाई के जंगल में बिना कपड़ों के पीडि़ता की लाश मिली थी। छात्रा की गैंगरेप के बाद हत्या कर दी गई थी। मामले में छह आरोपी पकड़े गए थे। इनमें राजेंद्र सिंह उर्फ राजू सुभाष बिस्ट, सूरज सिंह, लोकजन उर्फ छोटू और दीपक शामिल थे। इनमें से सूरज की कोटखाई थाने में 18 जुलाई, 2017 की रात को हत्या कर दी गई थी। आरोप है कि राजू की सूरज से बहस हुई और उसके बाद राजू ने उसकी हत्या कर दी। सीबीआई ने इन दोनों मामलों में चालान पेश कर दिया है।

You might also like