सैनिक भाजपा के लिए सिर्फ वोट बैंक ही रहे

ऊना—कांग्रेस प्रत्याशी रामलाल ठाकुर ने आरोप लगाया कि भाजपा पर सैनिकों व शहीदों के नाम पर राजनीतिक ड्रामा कर रही है। मात्र वोट बैंक के लिए शहीदों के नाम का प्रयोग किया जा रहा है, जबकि शहीदों व शहीद परिवारों का तो दिल से सम्मान किया जाना चाहिए। उन्होंने मंगलवार को ऊना जिला के कुटलैहड़ हलके के लठियाणी, दोघी, समलाड़ा, खैरियां, रायपुर मैदान, ऊना सदर हलके के जखेड़ा, देहलां, बडैहर, नंगड़ा, अजौली, संतोषगढ़ व ऊना में आयोजित नुक्कड़ सभाओं में केंद्र सरकार पर कड़े प्रहार किए। उन्होंने भाजपा पर शहीदों और शहीद परिवारों के नाम पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा सैनिकों और शहीदों के सम्मान करने का ड्रामा कर रही है, जबकि भाजपा ने शहादत और सैनिकों को मात्र वोट बैंक का माध्यम बना रखा है। रामलाल ठाकुर ने कहा कि भाजपा शहीदों का कितना सम्मान करती है, इसका अंदाजा भाजपा नेत्री साध्वी प्रज्ञा के विवादित बयान से लगाया जा सकता है, जिसमें मुंबई आंतकी हमले में शहीद हुए हेमंत करकरे को देशद्रोही तक करार दे डाला था। इससे साफ  होता है कि भाजपा की शहीदों के प्रति क्या मानसिकता है। उन्होंने कहा कि हमीरपुर संसदीय क्षेत्र वीर सैनिकों और शहीदों की भूमि है। यहां से जहां देश के लिए सैकड़ों जवान दिए, वहीं कई जवानों ने देश के लिए शहादत दी। ऐसे में यहां के लोग किसी भी सूरत में भाजपा को माफ  नहीं कर सकते हंै। वहीं, उन्होंने कहा कि पुलवामा हमले में हुए शहीदों सैनिकों के नाम पर भी भाजपा अपने वोट बैंक की रोटियां सेंक रही है, जिसका बाकायदा एक ऑडियो और वीडियो भी जारी हुआ है, जिसमें भाजपा नेता इस मुदद को वोट में बदलने की बात कर रहे थे। रामलाल ठाकुर ने कहा कि वन रैंक, वन पेंशन में भी कई खामियां हैं, लेकिन उसे केंद्र सरकार पांच साल में दूर नहीं कर पाई है। जिससे साफ  है कि भाजपा सेना के जवानों, पूर्व सैनिकों और शहीदों को केवल और केवल वोट बैंक का माध्यम मानती है, लेकिन लोग अब सब समझ गए हैं। लोग अब भाजपा के झूठे वादों में आने वाले नहीं हैं।

You might also like