स्मार्ट सिटी में नई बहुओं का पंजीकरण नहीं

धर्मशाला   —स्मार्ट सिटी धर्मशाला में शादी करके आने वाली  बहुओं और यहां बसने वाले नए परिवारों को अपना नाम पंजीकृत करवाने के लिए परेशान होना पड़ रहा है। पंचायती क्षेत्र से निगम एरिया में शामिल लोगों को इस परेशानी से अधिक जूझना पड़ रहा है। शहरी विकास विभाग से अभी निगम को ऐसे लोगों को सुविधा देने संबंधि पत्र का जवाब ही नहीं मिल पाया है। न ही निगम में परिवार रजिस्टर का कोई प्रावधान है। जबकि किसी भी तरह का प्रमाण पत्र बनाने से पहले तहसीलदार व पटवारी परिवार नकल मांग रहे हैं। नगर निगम धर्मशाला ने करीब छह माह पहले विभाग से इस संबंध में पत्राचार किया था, लेकिन विभागीय गाइडलाइन न मिलने के कारण लोगों को परेशान होना पड़ रहा है। पंचायती क्षेत्र से निगम मेंं हजारों परिवार शामिल किए गए हैं। निगम द्वारा पंचायतों से लिए गए रिकार्ड में पहले ही कई खामियां हैं।  उस पर नई व्यवस्था में कोई गाइडलाइन मिलने से लोगों को चक्कर काटने पर मजबूर होना पड़ रहा है। निगम कार्यालय में हर दिन ऐसे अनेकों मामले आ रहे हैं। नौकरी कर वापस लौटने वाले लोगों जिनके पूर्वजों की यहां जमीन तो है, लेकिन वे अपने काम से बाहर चले गए थे, उनका भी लौटने पर पंजीकरण करना मुश्किल बन गया है। ऐसे लोगों ने उस समय अपनी सुविधा के लिए अपने  राशन कार्ड वहीं बना लिए थे, लेकिन अब वह यहां अपना पंजीकरण करवाना चाह रहे हैं, तो मुश्किल हो रही है।

परिवार नकल पर कोई गाइडलाइन नहीं

पंचायतों से शहरी क्षेत्र में शामिल हुए सैकड़ों परिवारों को अपने आय संबंधि, काष्ट या अन्य कई तरह के प्रमाण पत्र बनवाने के लिए पटवारी से वैरिफिकेशन करवानी पड़ रही है। इसके साथ उनसे परिवार नकल मांगी जा रही है, लेकिन परिवार नकल को मैंटेन करने या न करने की निगम के पास कोई गाइडलाइन ही नहीं है। ऐसे में अब पार्षद अपने स्तर पर लोगों को सुविधा प्रदान करने की योजना प्रदान कर रहे हैं, लेकिन अधिकारिक तौर पर लोगों को कोई उचित सुविधा नहीं मिल रही है।

You might also like