स्वार्थ की राजनीति कर रहे मुकेश

नेता प्रतिपक्ष पर बरसे भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सत्ती

 ऊना —भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सत्ती ने कहा कि मुकेश अग्निहोत्री प्रदेश में अवसरवाद की राजनीति का प्रतीक हैं। खुशामद के दम पर राजनीति कर रहे अग्निहोत्री में पद पाने के लिए उनको भी किनारे लगाने का अवसर नहीं गंवाया, जिनका हाथ पकड़ कर उन्होंने राजनीति की शुरुआत की थी। सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि कांग्रेस विधायक दल का नेता बनने के लिए मुकेश अग्निहोत्री ने अपने राजनीतिक गुरू वीरभद्र सिंह को साइड कर दिया। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की कृपा से उन्होंने विपक्ष के नेता का दर्जा हासिल किया। हालांकि इसके लिए उनके पास विधायकों की जरूरी संख्या भी नहीं थी। सत्ती ने कहा कि मुकेश अग्निहोत्री की राजनीति और झूठ की दुकान ज्यादा दिनों तक नहीं चलने वाली है। कांग्रेस के नेता भी उनकी सच्चाई को जान गए हैं। यही कारण है कि उनके कारनामों को देखते हुए कोई भी कांग्रेस प्रत्याशी उन्हें अपने यहां चुनाव प्रचार में बुलाने के लिए तैयार नहीं है। कांग्रेस संगठन में कोई पूछ न होने के कारण अब वह केवल नाम के नेता बने हुए हैं। आपराधिक और असामाजिक तत्त्वों को संरक्षण देने की उनकी नीति से पहले कांग्रेस सरकार गई थी और अब कांग्रेस पार्टी का बंटाधार होना निश्चित है। आज कांग्रेस की हालत यह है कि उसके पास न नेता है, न नीयत और न ही कोई नीति है। कांग्रेस अपने आस्तित्व की लड़ाई लड़ रही है। कांग्रेस नेता जीतने के लिए नहीं, बल्कि एक दूसरे को निपटाने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं। जल्द ही कांग्रेस की लड़ाई सड़कों पर दिखेगी। इसके विपरीत भाजपा एकजुटता से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के नाम और काम की बदौलत लोकसभा की चारों सीटों पर ऐतिहासिक विजय हासिल करने जा रही है।

You might also like