हमीरपुर में बेकाबू लपटों ने छीनी छत

 हमीरपुर —जिला मुख्यालय से करीब सात किलोमीटर दूर स्थित भारीं गांव में आधी रात को आग ने जमकर तांडव मचाया। भीषण अग्निकांड में चार परिवारों का रिहायशी मकान जलकर राख हो गया, वहीं एक गोशाला भी स्वाह हो गई। भयंकर अग्निकांड की लपटें कई किलोमीटर दूर से भी दिखाई दे रही थीं। अग्निशमन विभाग ने करीब तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। हालांकि तब तक सब राख हो चुका था। आग के इस तांडव में चार परिवार बेघर हो गए। गनीमत रही कि इस बड़ी घटना में कोई जानी नुकसान नहीं हुआ। जानकारी के अनुसार शनिवार रात को भारीं गांव में अचानक आग लग गई। हादसा रात करीब एक बजे पेश आया। दलेल सिंह, रक्षा देवी, जगदीश चंद व राजेश शर्मा के मकान आग की भेंट चढ़ गए। जब मकान के स्लेट आग की तपिश से टूटने लगे, तो उनकी आवाज सुनकर सभी लोग घर से बाहर निकल गए। बाहर आकर देखा, तो आग की लपटें आसमान छू रही थीं। परिवार के सदस्यों ने शोर मचाना शुरू किया। अग्निशमन विभाग को भी इसकी सूचना दी गई। सूचना मिलने के बाद पहुंची दमकल विभाग की टीम ने तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। अग्निकांड में चार परिवारों के करीब छह कमरे व एक गोशाला जल गई। इस भीषण अग्निकांड में करीब साढ़े सात लाख की संपत्ति राख हो गई। घर के अंदर रखें कपड़े, नकदी, इमारती लकड़ी सहित अन्य सामग्री स्वाह हो गई। हालांकि आग लने के कारणों का अभी पता नहीं चल पाया है। फिर भी चार परिवार बेघर हो चुके हैं। ग्रामीणों ने प्रशासन से मांग की है कि प्रभावित परिवारों को मदद उपलब्ध करवाई जाए।

भौंखर में भीषण अग्निकांड के बाद फटा गैस सिलेंडर

लदरौर —ग्राम पंचायत भौंखर के गांव भौंखर में दोमंजिला मकान आग की भेंट चढ़ गया। भीषण अग्निकांड में निर्धन परिवार को करीब पांच लाख रुपए का नुकसान हुआ है। आग लगने के बाद रसोईघर में रखा गैस सिलेंडर भी फट गया। गनीमत रही कि इसकी चपेट में कोई नहीं आया अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था। आगजनी की यह घटना रविवार दोपहर को घटी, जब घर में सिर्फ एक वृद्ध व्यक्ति था, बाकी सारा परिवार काम के चलते घर से बाहर था।  जानकारी के अनुसारतुलसी राम पुत्र श्यामा के घर में करीब दोपहर करीब एक बजे अचानक आग लग गई। जिस कमरे में रेफ्रिजिरेटर रखा था, उसमें से अचानक धुंआ निकलना शुरू हो गया। माना जा रहा है कि यहां शॉर्ट सर्किट के बाद आग लगी होगी। देखते ही देखते रसोईघर ने भी आग पकड़ ली। इसके बाद एक जोरदार धमाके के साथ सिलेंडर फटा व आग पूरे मकान में फैल गई। जब आग लगी तब घर मे 101 वर्षीय वृद्ध ही उपस्थित था। घर की छत से धुआं और आग की लपटें उठता देख आस-पड़ोस के लोगों ने शोर मचाया। कड़ी मशक्कत के बाद लोगों ने आग बुझाई, लेकिन तब तक सब राख हो चुका था। भौंखर पंचायत के प्रधान रणजीत  सिंह ने बताया कि परिवार बीपीएल से संबंधित है। उनके रहने का पड़ोस के घर में इंतजाम किया गया है। पीडि़त परिवार को स्थानीय राशन डिपो से राशन भी उपलब्ध करवा दिया गया है। भोरंज गैस एजेंसी के मालिक अजय कुमार ने बताया कि पीडि़त परिवार को गैस कनेक्शन भी दे दिया गया है। प्रशासन की ओर से भोरंज तहसीलदार दीनानाथ ने पीडि़त परिवार को 25 हजार की फौरी राहत प्रदान की है।

30 किलोमीटर दूर से आई फायर ब्रिगेड

अग्निकांड की घटना पर काबू पाने के लिए 30 किलोमीटर दूर हमीरपुर से फायर ब्रिगेड बुलानी पड़ी। भोरंज में फायर केंद्र न होने के कारण आगजनी पर समय रहते काबू नहीं पाया जा सका। हमीरपुर से जब दमकल विभाग की गाड़ी पहुंची सब जलकर राख हो चुका था।

You might also like