हाईकोर्ट ने खट्टर को दिलाया कमरा

निर्वाचन आयुक्त ने गेस्ट हाउस में रूम देने से किया था इनकार, न्यायालय से ली परमिशन

चंडीगढ़ – पंजाब-हरियाणा की तरफ से देर रात मिली राहत के बाद हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर को नरवाना के गेस्ट हाउस में ठहरने के लिए कमरा मिल सका। दरअसल, सिरसा जिले में चुनाव प्रचार के बाद मुख्यमंत्री का चंडीगढ़ पहुंचने का कार्यक्रम था, लेकिन शुक्रवार देररात को अचानक मौसम खराब होने के कारण हेलिकॉप्टर उड़ान नहीं भर सका। बता दें कि रविवार को चुनाव होने के कारण प्रदेश चुनाव आयोग ने नियमानुसार किसी भी नेता को चुनावों तक कोई भी सरकारी संपत्ति का इस्तेमाल करने पर पाबंदी लगा दी है। इसके चलते अब हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खटटर भी चुनाव आयोग के इस नियम में फंस गए। हालांकि कुछ देर इंतजार के बाद उन्हें रूम मिल गया।

आचार संहिता के चलते नहीं मिली इजाजत

पायलट ने तेज आंधी और बारिश को देखते हुए उड़ान के लिए इनकार कर दिया। इस वजह से उनके कार्यक्रम में बदलाव किया गया। वह सड़क मार्ग से जींद जा रहे थे। इस दौरान जींद के जिला उपायुक्त और जिला निर्वाचन अधिकारी डा. आदित्य दहिया से संपर्क किया गया और नरवाना के सरकारी गेस्ट हाउस में कमरे की व्यवस्था करने का आग्रह किया गया, लेकिन दहिया ने चुनाव आचार संहिता का हवाला देते हुए ऐसा करने से इनकार कर दिया।

आधी रात को बेंच गठित

मामला सीएम तक पहुंचा तो तुरंत इस मामले में अदालत की शरण लेने का फैसला हुआ। तुरंत ही हरियाणा के ऐडवोकेट जनरल बलदेव महाजन से बातचीत हुई और उन्होंने रात करीब साढ़े आठ बजे पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस कृष्ण मुरारी के यहां याचिका दी। चीफ जस्टिस ने मामले की सुनवाई के लिए जस्टिस राजीव शर्मा और जस्टिस एचएस सिद्धू पर आधारित बेंच गठित कर दी। बेंच ने मामले की सुनवाई रात साढ़े दस बजे शुरू की। सभी पक्षों को सुना गया और उसके बाद करीब आधा घंटे की सुनवाई के बाद बेंच ने सीएम को नरवाना में ठहरने की इजाजत दे दी।

You might also like