हार के बाद कांग्रेस में इस्तीफों की बौछार

यूपी-ओडिशा के पार्टी अध्यक्ष, अमेठी जिला अध्यक्ष, कर्नाटक प्रचार कमेटी अध्यक्ष ने दिए त्यागपत्र

नई दिल्ली – सत्रहवीं लोकसभा के चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद पार्टी में शुक्रवार को इस्तीफों की झड़ी लग गई। पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष राज बब्बर, अमेठी जिला अध्यक्ष, कर्नाटक कांग्रेस अभियान समिति के अध्यक्ष, ओडिशा कांग्रेस अध्यक्ष निरंजन पटनायक  और कई अन्य नेताओं ने भी पराजय की जिम्मेदारी लेते हुए त्यागपत्र दे दिए। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की करारी हार की जिम्मेदारी लेते हुए पार्टी अध्यक्ष राज बब्बर ने परोक्ष रूप से इस्तीफे की पेशकश की है। कर्नाटक चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष तथा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एचके पाटिल ने कहा कि हमें जनादेश स्वीकार करना चाहिए और मैं चुनाव में पार्टी की हार की नैतिक जिम्मेदारी लेता हूं। मैं अपने पद से इस्तीफा दे रहा हूं और अपना त्यागपत्र कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तथा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को भेज रहा हूं। कांग्रेस ने राज्य में 21 सीटों पर चुनाव लड़ा था, जिनमें से वह केवल एक ही सीट सकी। ओडिशा कांग्रेस अध्यक्ष निरंजन पटनायक ने कहा कि राज्य में लोकसभा और विधानसभा चुनावों में पार्टी ने बेहद खराब प्रदर्शन किया है। इन चुनावों में पार्टी की हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए मैंने अपने पद से इस्तीफा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को भेज दिया है। राज्य विधानसभा चुनाव में पार्टी ने केवल नौ सीटें जीती हैं, जबकि 2014 में उसने 16 सीटें जीती थीं। इस बार पार्टी ने राज्य में केवल एक कोरापुट लोकसभा सीट पर जीत दर्ज की है।उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर ने भी हार की जिम्मेदारी लेते हुए परोक्ष रूप से इस्तीफे की पेशकश की है। श्री बब्बर ने इस्तीफे की पेशकश करते हुए ट््वीट किया कि जनता का विश्वास हासिल करने के लिए विजेताओं को बधाई। यूपी कांग्रेस के लिए परिणाम निराशाजनक हैं। अपनी जिम्मेदारी को सफल तरीके से नहीं निभा पाने के लिए खुद को दोषी पाता हूं। नेतृत्व से मिलकर अपनी बात रखूंगा। अमेठी के जिला कांग्रेस अध्यक्ष योगेंद्र मिश्र ने अमेठी लोकसभा क्षेत्र में कांग्रेस की हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अपना इस्तीफा भेजा है। चुनाव में हार के कारणों की समीक्षा करने के लिए कांग्रेस पार्टी ने शनिवार को अपनी सर्वोच्च नीति निधारक इकाई कांग्रेस कार्य समिति की बैठक बुलाई है। इस बैठक में पार्टी हार के कारणों पर आत्ममंथन करेगी और प्रमुख नेता इस संबंध में अपने विचार रखेंगे। सूत्रों के अनुसार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी इस बैठक में हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफे की पेशकश कर सकते हैं।

मीडिया के सामने देना चाहते थे इस्तीफा, सोनिया ने रोके

नई दिल्ली – चुनाव परिणामों में करारी शिकस्त मिलने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मीडिया के समक्ष अपना इस्तीफा पेश करना चाहते थे, लेकिन मां सोनिया गांधी ने राहुल को ऐसा कदम उठाने से रोका। सूत्रों से जानकारी के मुताबिक प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद राहुल ने सोनिया गांधी से बातचीत की और इस्तीफे की बाद रखी, लेकिन यूपीए अध्यक्ष ने उनको समझाते हुए मीडिया के सामने इस्तीफा देने से मना किया और सीडब्ल्यूसी बैठक की बात कहीं। जानकारी के मुताबिक राहुल गांधी अब सीडब्ल्यूसी बैठक में अपना इस्तीफा पेश करेंगे। हालांकि यह देखना बेहद ही दिलचस्प होगा कि सीडब्लूसी की बैठक में उनके इस्तीफे का क्या होगा।

You might also like