हिमाचल से नौवें मंत्री बने अनुराग

केंद्रीय कैबिनेट में सबसे युवा मंत्री होंगे हमीरपुर के सांसद

शिमला – मोदी की सरकार में हमीरपुर के सांसद अनुराग ठाकुर केंद्रीय मंत्री होंगे। यह गौरव हासिल करने वाले अनुराग ठाकुर हिमाचल प्रदेश के केंद्र में नौवें मंत्री हैं। अब तक रहे प्रदेश के सभी केंद्रीय मंत्रियों में अनुराग ठाकुर सबसे युवा नेता हैं। अनुराग ठाकुर की ताजपोशी के बाद प्रदेश में सियासी समीकरण भी नई करवट लेंगे। चौथी बार निर्वाचित हुए युवा सांसद के मोदी कैबिनेट में शामिल होने से हमीरपुर जिला का सूखा भी समाप्त हो गया है। रोचक है कि वर्ष 2008 में राजनीति में पदार्पण करने वाले अनुराग ठाकुर ने एक दशक के सियासी सफर में कई कीर्तिमान अपने नाम दर्ज करवा लिए हैं। वह चार बार सांसद निर्वाचित होने के अलावा तीन बार भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके हैं। इसके अतिरिक्त मोदी-1 सरकार में चीफ व्हीप का अनुभव प्राप्त कर चुके हैं। इस बार केंद्र सरकार में जगह बनाने वाले अनुराग ठाकुर दुनिया की अमीर संस्था बीसीसीआई के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। बहरहाल, अनुराग की ताजपोशी से हिमाचल प्रदेश का एक बार देश में कद ऊंचा हुआ है। अहम है कि मोदी-1 सरकार में इसी संसदीय क्षेत्र से ताल्लुक रखने वाले जेपी नड्डा को केंद्रीय मंत्रिमंडल में स्थान दिया गया था। हालांकि वह राज्यसभा से दिल्ली भेजे गए थे। लोकसभा चुनाव जीत कर संसद पहुंचे अब तक प्रदेश के पांच नेताओं को केंद्रीय कैबिनेट में कुर्सी मिल चुकी है।

केंद्र में अब तक प्रदेश से मंत्री

राजकुमारी अमृत कौर

विक्रम चंद महाजन

शांता कुमार

पंडित सुखराम

वीरभद्र सिंह

चंद्रेश कुमारी

आनंद शर्मा

जगत प्रकाश नड्डा

अनुराग ठाकुर

सांसद अनुराग ठाकुर अब तक

अनुराग ठाकुर हिमाचल प्रदेश से दो बार मुख्यमंत्री रहे प्रेम कुमार धूमल के बड़े सुपुत्र हैं। इनका जन्म 24 अक्तूबर, 1974 को हमीरपुर में हुआ था। अनुराग ने जालंधर के दोआबा कालेज से स्नातक की डिग्री हासिल की है। मई, 2008 के लोकसभा चुनाव में वह पहली बार लोकसभा सदस्य निर्वाचित हुए थे। इसके बाद 2009 में वह दूसरी बार सांसद बने। वर्ष 2014 में तीसरी बार और 2019 में चौथी बार सांसद बने । इस बार उन्होंने कांग्रेस के रामलाल ठाकुर को करीब चार लाख मतों के अंतर से हराया है। राजनीति के अलावा अनुराग खेलों से भी जुड़े हैं। वह हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष के अलावा बीसीसीआई के सह-सचिव व अध्यक्ष भी रहे।

You might also like