106 साल के कश्मीर सिंह को वोट देने का न्योता

ऊना—जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त ऊना राकेश कुमार प्रजापति ने आज हरोली विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत ईसपुर पंचायत के 106 वर्षीय कश्मीर सिंह को उनके घर जाकर न केवल उन्हे शॉल, टोपी व शतायु मतदान प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया बल्कि 19 मई को होने वाले लोकसभा चुनाव में एक बार फिर से मतदान करने का भी आग्रह किया। इस मौके पर उपायुक्त को अपने बीच पाकर बेहद खुश नजर आए कश्मीर सिंह ने बताया कि वह आजादी के बाद लगातार चुनावों में अपने वोट का इस्तेमाल करते आ रहे हैं तथा इस बार भी वे जरूर वोट डालने जाएंगे तथा परिवार के अन्य सदस्यों को भी मतदान के लिए साथ लेकर जाएंगे। इस बीच उपायुक्त ने कश्मीर सिंह की सेहत का हालचाल भी जाना तथा उनकी दीर्घ आयु की कामना की। इसके साथ-साथ डीसी ने उनके जीवन अनुभवों बारे भी विस्तारपूर्वक चर्चा की तथा दोनों के बीच एक लंबी बातचीत भी हुई। उपायुक्त ने कहा कि जिला में वर्तमान में लगभग 103 शतायु मतदाता जिला के सभी पांचों विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों में पंजीकृत हैं तथा इन सभी शतायु मतदाताओं को जहां क्षेत्र के राजपत्रित अधिकारी उनके घर जाकर उन्हंे शतायु मतदान प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित करेंगे। बल्कि 19 मई को लोकसभा चुनाव में वोट डालने के लिए आमंत्रित भी किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिला के प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में बुजुर्ग एवं दिव्यांग मतदाताओं की सुविधा के लिए निर्वाचन विभाग द्वारा विशेष व्यवस्था भी की जा रही है, ताकि उन्हंे वोट डालने में किसी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े। डीसी राकेश कुमार प्रजापति का कहना है कि जिला निर्वाचन विभाग ने जिला के शतायु मतदाताओं को रोल मॉडल के तौर अपनाया है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों विशेषकर युवा मतदाताओं को वोट देने के लिए प्रेरित किया जा सके। उन्होने कहा कि जहां निर्वाचन विभाग जिला के ऐसे कई शतायु मतदाताओं के घर पहुंचा है तो वहीं इन बुजुर्ग मतदाताओं के माध्यम से आम जनमानस से वोट डालने को लेकर की गई अपील को भी विभिन्न प्रचार-प्रसार माध्यमों से लगातार प्रचारित किया जा रहा है। उन्होने बताया कि शतायु मतदाताओं की अपील को सोशल मीडिया के साथ-साथ डीसी कार्यालय में स्थापित एलईडी वीडियो वॉल के माध्यम से प्रसारित किया जा रहा है तो वहीं जिला के विभिन्न स्थानों पर होर्डिंग्स भी स्थापित किए गए हैं। इस मौके पर जिला पंचायत अधिकारी रमण कुमार शर्मा, निर्वाचन अधिकारी राजेश कुमार डोगरा भी उपस्थित थे।

सेना के जवान-युद्धबंदी भी रहे हैं कश्मीर सिंह

वर्ष 1913 में पैदा हुए 106 वर्षीय ईसपुर निवासी कश्मीर सिंह भारतीय सेना की डोगरा रेजिमेंट में बतौर सैनिक अपनी सेवाएं देश के लिए दे चुके हैं बल्कि आजादी के संघर्ष में वे लंबे वक्त तक युद्धबंदी भी रहे हैं। उनके छह लड़कियां व चार लड़के हैं तथा सभी अपने-अपने परिवार के साथ खुशी-खुशी जीवन बिता रहे हैं।

You might also like