12 घंटे में मार गिराए चार आतंकी

शोपियां-पुलवामा में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी सफलता

श्रीनगर – दक्षिण कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ एक बड़ी कार्रवाई करते हुए सेना ने गुरुवार को दो जिलों में चार दहशतगर्दों को मार गिराया। शोपियां में गुरुवार शाम करीब चार बजे सेना की 44 राष्ट्रीय रायफल्स की एक पैट्रोलिंग टीम पर हुए हमले के बाद जवानों ने हमले की वारदात में शामिल एक आतंकी को ढेर कर दिया है। इससे पहले पुलवामा में गुरुवार सुबह एक एनकाउंटर के दौरान तीन आतंकी मार गिराए गए थे। प्राप्त जानकारी के अनुसार, शोपियां जिला में सेना की एक पैट्रोलिंग टीम पर गुरुवार शाम करीब चार बजे अरिपाल इलाके में फायरिंग हुई थी। इसके बाद इलाके में आतंकियों की तलाश के लिए सख्त घेराबंदी की गई, जिसे देखते हुए हमलावरों ने सेना की टीम पर गोलीबारी कर भागने का प्रयास किया। इसी दौरान जवाबी कार्रवाई करते हुए सेना के जवानों ने आतंकियों के दल पर फायरिंग की और एक दहशतगर्द को मार गिराया। इस मुठभेड़ के बाद सेना ने इलाके में बड़ा कॉबिंग ऑपरेशन चलाया, जो खबर लिखे जाने तक जारी था। इससे पहले पुलवामा जिला में सुरक्षा बलों के तलाशी अभियान के दौरान आतंकवादियों के साथ गुरुवार तड़के मुठभेड़ में जैश के एक शीर्ष कमांडर सहित तीन आतंकवादी मारे गए और एक जवान शहीद हो गया। इस दौरान एक नागरिक की भी मौत हो गई। प्रशासन ने मुख्य पुलवामा शहर और आसपास के  क्षेत्रों में कर्फ्यू जैसे प्रतिबंध लगा दिए हैं और एहतियात के तौर पर मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को भी प्रतिबंधित कर दिया है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि पुलवामा के दालीपोरा गांव में आतंकवादियों के छिपे होने की खुफिया सूचना मिलने के मिलने के बाद राष्ट्रीय रायफल्स, सीआरपीएफ और जम्मू-कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान दस्ते ने एक तलाशी अभियान चलाया। जब सुरक्षा बल उस मकान के आसपास से लोगों को निकाल रहे थे तो आतंकवादियों ने उन पर गोलियां चलानी शुरू कर दीं। इस गोलीबारी में सेना का एक जवान संदीप शहीद हो गया और एक नागरिक रईस डार की भी मौत हो गई। सुरक्षा बलों ने भी जवाबी कार्रवाई की, जिसमें जैश के शीर्ष कमांडर समेत तीन आतंकवादी मारे गए। तीनों के शव बरामद कर लिए गए हैं और मकान के भीतर से भारी मात्रा में हथियार एवं गोला-बारूद  मिला है। आतंकवादियों की पहचान नसीर निवासी करीमाबाद, पुलवामा, उमर मीर निवासी सोपियां और पाकिस्तान निवासी खालिद के तौर पर की गई है। पुलिस रिकार्ड के मुताबिक ये तीनों आतंकवादी जैश से जुड़े हुए थे और कश्मीर प्रशासन को आतंकवादी करतूतों तथा सुरक्षा बलों और अन्य संस्थानों पर हमला करने के मामले में इनकी तलाश थी। सूत्रों ने बताया कि दक्षिण कश्मीर में आतंकवादियों के मारे जाने और नागरिक की मौत के बाद प्रशासन ने कर्फ्यू जैसे प्रतिबंध लगा दिए हैं।

You might also like