15 में पूरा हुआ तीन घंटे का हवाई सफर

नई दिल्ली – फ्लाइट से यात्रा का समय कई गुना कम हो जाता है। यह अलग बात है कि हवाई टिकट कई गुना महंगा भी होता है। मगर बंगलूर से दिल्ली की हवाई यात्रा के लिए निकले लोगों के साथ कुछ ऐसा हुआ, जिसे वह जीवन भर भूल नहीं पाएंगे। हुआ यह कि दोनों शहरों के बीच तीन घंटे का यह सफर 15 घंटे में पूरा हुआ और यात्रियों पर किराए और वक्त की दोहरी मार पड़ी। तय समय से पांच गुना वक्त में सफर की यह कहानी स्पाइसजेट से जुड़ी है।  स्पाइसजेट की फ्लाइट एसजी-8720 बंगलूर से सीधे दिल्ली के लिए उड़ी। उसे दोनों शहरों के बीच कहीं रुकना नहीं था, क्योंकि वह नॉन-स्टॉप फ्लाइट थी। मगर रात दस बजे के नियत समय से बंगलूर से उड़ान भरने वाली एसजी- 8720 शुक्रवार रात डेढ़ घंटे की देरी से यानी करीब 11ः30 बजे उड़ान भर पाई। उसके बाद विमान में आई एक खामी की वजह से फ्लाइट को नागपुर डायवर्ट कर दिया गया। यात्रियों का कहना है कि उन्हें स्पाइसजेट के इस बोइंग 737 विमान में रातभर बंद रखा गया, जब तक कि वैकल्पिक विमान वहां से यात्रियों को लेकर नहीं उड़ा।  वहीं, स्पाइसजेट के एक प्रवक्ता ने इस घटना पर कंपनी की ओर सफाई दी। उसने कहा, बंगलूर से दिल्ली के बीच संचालित एसजी- 8720 फ्लाइट तकनीकी समस्या के कारण नागपुर डायवर्ट हो गई। वहां उसकी नॉर्मल लैंडिंग हुई, न कि एमर्जेंसी लैंडिंग। वहां यात्रियों को रिफ्रेशमेंट्स दिए गए और एक वैकल्पिक विमान भेजा गया। वहां से फ्लाइट दिल्ली के लिए रवाना हुई। नागपुर स्पाइसजेट के लिए ऑफलाइन स्टेशन है। एयरलाइंस का कहना है कि ऐसी जगहों पर वैकल्पिक विमान की व्यवस्था करने में कभी-कभार ज्यादा वक्त लग जाता है।

You might also like