18 साल बाद भी बेही पठियार-कलाहड़ मार्ग कच्चा

जवाली -विधानसभा क्षेत्र जवाली के अंतर्गत पंचायत कोटला के बेही पठियार व कलाहड़ गांव के बाशिंदे आज भी पक्की सड़क सुविधा से महरूम होने के कारण गुलामी की बेडि़यों में जकड़ी हुई जिंदगी जी रहे हैं तथा प्रदेश सरकारों, प्रतिनिधियों व लोक निर्माण विभाग को कोसते हैं। केवल मन्हास, भान सिंह, कुलदेव सिंह, विशाल मिन्हास, प्रवीण मन्हास, स्वरूप मन्हास, टोनी मन्हास, सुखदेव पंडित, सुशील पंडित, बालको राम धीमान, रमेश धीमान, सन्नी मन्हास, अरुण मन्हास, कर्ण मन्हास, स्वर्ण व सुखदेव मन्हास इत्यादि ने कहा कि करीब 250 घरों को पक्की सड़क से जोड़ने के लिए वर्ष 1991 में बेही पठियार-कलाहड़ सड़क का कार्य शुरू हुआ, लेकिन 18 साल का समय बीत जाने के बाद भी 1300 मीटर लंबी सड़क पक्की नहीं हो पाई है। इस मार्ग को बनाने के लिए बुजुर्गों द्वारा अपनी मलकीयती जमीन दी गई है, लेकिन बिडंवना है कि बुजुर्ग जीते जी सड़क का लाभ नहीं ले सके। इसके बाद वर्ष 2001 में दोबारा से मार्ग का कार्य शुरू हुआ। अब आगे की पीढ़ी मार्ग के पक्का होने की आस लगाए हुए है, लेकिन उनकी आस कब पूरी होती है, यह देखना बाकी है। गांववासियों ने कहा कि मार्ग पर अभी तक रोड़ी ही बिछाई गई है तथा रोड़ी पर वाहन लेकर चलना तो दूर पैदल चलना भी खतरे से खाली नहीं है। उन्होंने कहा कि विभागीय अधिकारियों ने तो कभी मार्ग की स्थिति का जायजा नहीं लिया है। इस मार्ग पर विभाग द्वारा लाखों रुपए खर्च किए जा चुके हैं, लेकिन इसका जनता को कोई लाभ नहीं मिल पाया है। गांववासियों ने कहा कि बार-बार मार्ग का कागजों में नाम बदल कर लोगों को गुमराह किया जाता है। आखिरकार उनका मार्ग कहीं राजनीति का शिकार तो नहीं हो रहा। गांववासियों ने कहा कि अभी इस मार्ग पर कोलतार डालने का कार्य शुरू हुआ है, लेकिन कोलतार डालने का कार्य नियमों को ताक पर रखकर किया जा रहा है। बिना रोलर के हाथों से रोड़ी बिछाकर कोलतार डाली जा रही है, जो कि कुछ ही दिनों में उखड़ जाएगी तथा सरकारी पैसे का दुरुपयोग होगा।

सीएम से करेंगे शिकायत

ग्रामीणों का कहना है कि इसकी शिकायत मुख्यमंत्री जयराम से की जाएगी। उन्होंने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से मांग की है कि उनके गांव को जोड़ने वाले मार्ग की उच्च स्तरीय जांच करवाई जाए तथा गलत ढंग से कार्य करवाने पर विभाग के खिलाफ  कार्रवाई अमल में लाई जाए।

एसडीओ के बोल

पीडब्ल्यूडी कोटला के एसडीओ युद्धवीर सिंह ने कहा कि वह मौका पर हैं तथा कोलतार डालने का कार्य रोलर लगाकर किया जा रहा है। विभाग द्वारा नियमों के आधार पर ही कार्य किया जा रहा है।

 

 

You might also like