27.5 करोड़ भारतीयों का डाटा फिर हैक

नई दिल्ली – सिक्योरिटी रिसर्चर डिस्कवरी की एक रिपोर्ट में सामने आया है कि 27.5 करोड़ भारतीयों का डाटा दो हफ्तों के लिए अनप्रटेक्टेड था, जो एक हैकर्स ग्रुप ने हाइजैक कर लिया। सिक्योरिटी एक्सपर्ट बॉब डियाचेंको के मुताबिक भारतीय नागरिकों का मोंगोडीबी डाटोबेस ऐमजॉन एडब्ल्यूएस पर अवेलेबल था, जो सार्वजनिक रूप से एक्सेस किया जा सकता था। पहली मई को बॉब डियाचेंको ने मोंगोडीबी डद्मटाबेस पर अनप्रटेक्टेड डाटा पाया, जिसमें 275,265298 भारतीय नागरिकों के रिकार्ड मौजूद थे। इन रिकार्ड्स में पर्सनल आडेंटिफाइएबल इंफॉर्मेशन (पीआईआई) अवेलेबल थी। यह डाटा दो हफ्तों से ज्यादा समय तक अनप्रटेक्टेड था। इसमें यूजर्स के नाम, ई-मेल, जेंडर, एजुकेशन लेवल, एरिया ऑफ स्पेसलाइजेशन, प्रोफेशनल स्किल्स, फंक्शनल एरिया, मोबाइल नंबर, इंप्लॉयमेंट हिस्ट्री, करंट इंप्लॉयर, डेट ऑफ बर्थ और मौजूदा सैलरी जैसी जानकारियां उपलब्ध थीं, जिसे आराम से हासिल किया जा सकता था। बॉब डियाचेंको ने कहा कि पहली मई को मैने अनप्रटेक्टेड और पब्लिकली इंडेक्स्ड मोंगोडीबी डेटा बेस पाया, जिसमें 275,265,298 भारतीय नागरिकों के रिकार्ड्स पर्सनल आडेंटिफाइएबल इंफॉर्मेशन के साथ मौजूद थे। बॉब के मुताबिक इसके बाद उन्होंने पहली मई को इंडियन कम्प्यूटर इमरजेंसी टीम को इस घटना की जानकारी दी। इसके बावजूद डेटाबेस बुधवार, 8 मई तक ओपन रहा। इसी दौरान हैकर्स ने डेटा को वाइप आउट कर दिया और एक कोडेट मैसेज छोड़ा। एक्सपर्ट्स का मानना है कि हैकर्स द्वारा हैक किए गए रिकार्ड्स टोटल नंबर ऑफ रिकार्ड्स से कम हो सकता है। इसके बावजूद या भारतीय क्षेत्र में सबसे बड़े डाटा ब्रीच में से एक है। 

You might also like