अंत्योदय सरल केंद्रों से लाखों को लाभ

सीएम सुशासन सहयोगी कार्यक्रम के परियोजना निदेशक  बोले, 28 लाख को मिला योजना का बेनिफिट

चंडीगढ़ – हरियाणा में आमजन को सरकारी योजनाओं और सेवाओं का लाभ समयबद्ध तरीके से देने तथा आम जनता के कार्यों को सरलता से निपटाने में अंत्योदय सरल केंद्र मील का पत्थर साबित हो रहे हैं, जहां 37 सरकारी विभागों की 400 से अधिक सुविधाएं ऑनलाइन मुहैया कराई जा रही हैं। अंत्योदय सरल परियोजना की इस सफलता के लिए आयोजित सम्मान समारोह में मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी कार्यक्रम के परियोजना निदेशक डा. राकेश गुप्ता ने राष्ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी) और विभिन्न विभागों की सूचना प्रौद्योगिकी टीमों के 68 सदस्यों को सम्मानित किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि हरियाणा देश का पहला राज्य है, जिसने विभागों की सेवाओं को अंत्योदय सरल नामक प्लेटफार्म पर सिंगल ऑनलाइन डिजिटाइज किया है। सरकार ने इन सेवाओं के लिए 115 अंत्योदय सरल केंद्र स्थापित कर दिसंबर, 2018 में इन्हें संचालित कर दिया था। इस प्लेटफार्म की शुरुआत से लेकर अब तक लगभग 28 लाख नागरिक इन केंद्रों से सेवाएं प्राप्त कर चुके हैं। इस संबंध में जारी हेल्पलाइन नंबर 18002000023 पर हर महीने लगभग एक लाख कॉल प्राप्त हो रही हैं। इसलिए यह सरकार द्वारा संचालित बड़ी हेल्पलाइन बन चुकी हैं। उन्होंने कहा कि सेवाएं देने के बाद आईवीआरएस फीडबैक के माध्यम से नागरिकों से फीडबैक भी लिया जाता है, जिसमें नागरिकों द्वारा अधिकतम पांच अंकों की रैंकिंग में से 4.6 रैंकिंग दी गई है। लोगों को सरकारी सेवाओं और योजनाओं के लिए अलग अलग दफतरों के चक्कर न लगाने पड़े, इसके लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने इस परियोजना की नींव वर्ष 2017 में रखी थी, जिसके सकारात्मक परिणाम आने लगे हैं। इस परियोजना की विषेशताओं में एक बात अहम है कि सभी सरकारी सेवाओं और योजनाओं को ऑनलाइन किया गया है, ताकि नागरिक सरकारी सुविधाओं का लाभ लेने के लिए घर बैठे ऑनलाइन जानकारी और इनके लिए आवेदन कर सकें। डा. गुप्ता ने कहा कि इस प्रकार की प्रौद्योगिकी को लाने के लिए हरियाणा सरकार ने किसी अन्य एजेंसी की मदद लेने की जगह एनआईसी से अपने 37 विभाग और मुख्यमंत्री कार्यालय की मेहनत और तालमेल से इस परियोजना को मूर्त रूप दिया है।

You might also like