अनुराग ठाकुर से मिले किचन उद्योगपति

बीबीएन—उद्योग नीति और संवर्धन विभाग (डीआईपीपी) के एक फरमान के बाद तालाबंदी की कगार पर खड़े किचन एंप्लायसेंस उद्योगों ने केंद्र सरकार से राहत की गुहार लगाई है। इसी कड़ी में हिमाचल होम एप्लायसेंस मैन्यूफेक्चर्स एसोसिएशन ने केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर से दिल्ली में मुलाकात कर अपना दुखड़ा सुनाया और संकट के दौर से गुजर रहे उद्योगों को बचाने के लिए मियाद बढ़ाने की अपील की। केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री ने उद्योगपतियों की समस्याओं को गंभीरता से सुना और तुरंत कार्रवाई करते हुए भारतीय मानक ब्यूरों की महानिदेशक को फोन कर किचन एपलायसेंस निर्माता उद्योगों को पेश आ रही दिक्तों का जल्द  कारगर समाधान करने के निर्देंश दिए। यहां उल्लेखनीय है कि उद्योग नीति और संवर्धन विभाग (डीआईपीपी) ने गुणवत्ता नियंत्रण आदेश के तहत किचन एप्लायसेंस उद्योगों के लिए बीआईएस लाइसेंस अनिवार्य कर दिया है, लाइसेंस अनिवार्यता की शर्त ने हिमाचल सहित देश भर के 200 से ज्यादा किचन एप्लायसेंस उद्योगों को तालांबदी की कगार पर पहंुचा दिया है। हिमाचल में विगत पहली मई से करीब 35 किचन एप्लायसेंस उद्योगों में उत्पादन ठप्प पड़ा है, जिन गिन चुने उद्योगों को लाइसेंस मिले भी थे, उनके उत्पाद भी मान्यता प्राप्त लैबस में अधोमानक घोषित कर दिए गए जिसके आधार बीआईएस ने लाइसेंस रद्द करते हुए उत्पादन रोक दिया। नतीजतन जहां लाइसेंस न होने की सूरत में उद्योगपतियों को उत्पादन बदं रहने से करोड़ो का नुकसान झेलना पड़ रहा है वहीं दस हजार से ज्यादा कामगारों (जिनमें प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष तौर पर छह हजार से ज्यादा हिमाचली है )की नौकरी छीनने का संकट मंड़रा रहा है। इसके अलावा  किचन एप्लायसेंस उद्योगों को रॉ मटीरियल व पैकेंजिग मटीरियल भेजने वाले सैकड़ांे सेकेंडरी उद्योगों का भी कारोबार लडखड़ा गया है। दरअसल बीआईएस लाइसेंस लेने की प्रक्रिया लंबी व जटिल है, इस लाइसेंस के लिए विनिर्माण इकाइयों में एसटीआई के अनुसार विभिन्न उपकरणों की व्यवस्था करनी होती है और प्रमाणन के लिए आवेदन करने से पहले बीआईएस अनुमोदित प्रयोगशालाओं में परीक्षण के लिए भी जाना पड़ता है। इस प्रक्रिया में कम से कम छह महीने का समय लगता है जबकि डीआईपीपी द्वारा दी गई गई मियाद मात्र साढ़े पांच माह की थी। ऐसे में सभी निर्माताओं द्वारा इतने कम समय के भीतर बीआईएस लाइसेंस प्राप्त करना व्यावहारिक रूप से संभव नहीं है।

अनुराग से मुलाकात के बाद जगी उम्मीद

होम एप्लायसेस मैन्यूफेक्चर्स एसाोसिएशन के अध्यक्ष राजेंद्र गांधी की अगवाई में विवेक शर्मा, केएस मलिक,दीवान कोलिया सहित अन्य उद्योगपतियों ने बताया कि उन्होंने केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर से मुलाकात की और उनसे इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए राहत की गुहार लगाई है। उन्होंने केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री से डीआईपीपी व बीआईएस से लाइसेंस प्रक्रिया व मानकों को सरल करने व गुणवत्ता नियंत्रण आदेश की मियाद छह महीने और बढ़ाने की गुहार लगाई।

बीआईएस की अहम बैठक आज

बीबीएन। बतातें चलें कि भारतीय मानक ब्यूरों बुधवार कोे इस मसले पर दिल्ली में अहम बैठक करने जा रहा है जिसमें ब्यूरों के आला अधिकारियों सहित  नामी किचन एप्लायसेंस कंपनियों के क्ववालिटी हैड शिरकत करेंगे। इस बैठक पर ही अब किचन एप्लायसेंस उद्योगों की नजरें टिकी हुई है, क्योंकि इस दौरान ही किचन एप्लायसेंस के लिए क्वालिटी स्टेंर्ड्स पर चर्चा होगी और मियाद बढ़ाने का रास्ता प्रशस्त होगा। इस बैठक में बीआईएस के डीजी , बीआईएस हिमाचल सहित अन्य राज्यों  के हेड भी मौजूद रहेंगे।

You might also like