अपने ही देश में घिरे इमरान खान

नई दिल्ली – पाकिस्तान भारत से बातचीत के लिए बेताब है। हाल ही में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पीएम मोदी से साउथ एशिया और पड़ोसी देशों में शांति के लिए मिलकर काम करने की इच्छा जताई। भारत से बातचीत की पेशकश को लेकर इमरान खान अपने ही देश में घिर गए हैं। अमरीका में पाकिस्तान के पूर्व राजदूत हुसैन हक्कानी ने कहा है कि जब तक इस्लामाबाद अपनी सरजमीं से आतंकवादी ठिकानों को नहीं हटाता, तब तक बातचीत निरर्थक रहेगी। हक्कानी ने आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकते के भारत के रुख का समर्थन करते हुए कहा कि दोनों देशों के बीच कोई भी उच्च-स्तरीय बातचीत तब-तक निरर्थक रहेगी जब तक इस्लामाबाद अपनी सरजमीं से आतंकवादी ठिकानों को नहीं हटाता। हक्कानी ने कहा कि पाकिस्तान की भारत के साथ वार्ता की हालिया पहल को उस पर पड़ रहे आर्थिक एवं अंतरराष्ट्रीय दबाव के परिप्रेक्ष्य में देखा जाना चाहिए। हक्कानी का यह बयान किर्गिस्तान में 13-14 जून को आयोजित होने वाले शंघाई सहयोग संगठन शिखर सम्मेलन से पहले आया है। भारत और पाकिस्तान क्षेत्रीय सुरक्षा समूह का हिस्सा हैं।

You might also like