अब खटारा गाडि़यों में बच्चे ढोए तो खैर नहीं

चंबा —कमाई के चक्कर में जान को जोखिम में डाल कर ओवर ऐज हो चुकी खटारा गाडि़यों से छात्रों को ढोने वाले वाहन चलकों एवं स्कूल संचालकों की अब खैर नहीं। तकनीकी खराबी अनुभवहीतना एवं लापरवाही की बजह से हो रहे  झकझोर करने वाले बस हादसे से सबक लेते हुए जिला प्रशासन ने निजी स्कूल संचालकों की ओर से छात्रों को स्कूल लाने ले जाने में इस्तेमाल की जा रही गाडि़यों के उचित संचालन को लेकर सख्त रूख अखतियार किया है। कायदे नियमों को ताक पर रख कर ओवर ऐज हो चुकी गाडि़यों में ठंूस-ठूंस कर भरे जा रहे नौनिहालों के अलावा समय को एडजस्ट करने के साथ कमाई के चक्कर मंे स्पीड लिमिट को दरकिनार कर दौड़ाई जाने वाली गाड़ी चालकों पर भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी। स्कृूली छात्रों को लाने-ले जाने में वाली गाडि़यों की स्पीड़ 40 से ऊपर नहीं होनी चाहिए साथ ही गाडि़यों मेें तय लिमिट अनुसार ही छात्रों को बिठाना होगा। साथ ही काम चलाऊ चालकों के हाथों नहीं ब्लकि अनुभवी ड्राईवरों हाथों गाड़ी देनी होगी। ताकि किसी तरह की अनहोनी से बचा जा सके। उधर नौनिहालों की सुरक्षा को देखते हुए जिला प्रशासन सहित क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी ने स्कूल प्रबंधन वाहनों में सुरक्षा मानकों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित बात कही है। अगर स्कूल वाहन में कमी पाई जाती है तो स्कूल प्रबंधन पूरी तरह से जबावदेही होगा। इसके अलावा स्कूली बच्चों के साथ गाडि़यों को पेट्रोल पंप पर ले जा कर आयल भरवाने पर भी रोक लगाई गई है।

इन नियमों का करना होगा पालन

 स्कूल वाहनों के लिए सरकार द्वारा निर्धारित सभी मानक पूर्ण होने चाहिए।

 स्कूल बस पीले रंग की हो और स्कूल का नाम व फोन नंबर होना चाहिए।

 स्कूल वाहन में निर्धारित मानक का ऐसा स्पीड गवर्नर और सीसीटीवी कैमरा लगा हो जिसके साथ छेड़छाड़ न हो।

 विद्यालय का स्वयं का वाहन होने पर स्कूल बस और किराए के वाहन पर आगे और पीछे ऑन स्कूल ड्यूटी प्रदर्शित हो।

 वाहनों में क्षमता से अधिक बच्चे न बैठें। स्कूल बस में महिला परिचारिका की उपलब्धता अनिवार्य है। यदि ऐसा संभव न हो तो महिला शिक्षक की    ड्यूटी लगाई जाए।

 स्कूल बस में ग्रिल लगी हो। साथ ही बसों में सीटों के नीचे बैग रखने का इंतजाम हो।

 स्कूल बसों में अग्निशमन यंत्र भी पर्याप्त संख्या में लगाए जाएं।

 बस की सीट ऐसी बनी हो जो अत्यधिक ज्वलनशील न हो।

 स्कूल बस के भीतर व बाहर ट्रांसपोर्ट मैनेजर व अन्य जरूरी नंबर प्रदर्शित किए जाएं।

You might also like