अभी तक मास्टर ट्रेनर सिलेक्ट नहीं

शिमला – भारत सरकार के आदेशों के बाद भी शिक्षा विभाग अभी तक मास्टर ट्रेनर की सूची तैयार नहीं कर पाया है। विभागीय जानकारी के अनुसार शिक्षा विभाग को इस वक्त तक मास्टर ट्रेनर की सूची तैयार कर केंद्र सरकार को भेज देनी चाहिए थी। अभी तक जिलों से डाटा न आने की वजह से मास्टर ट्रेनर शिक्षा विभाग सिलेक्ट नहीं कर पा रहा है। यही वजह है कि पैब की बैठक के दो माह बाद भी हिमाचल से मास्टर ट्रेनर कौन होंगे, अभी तक यह फाइनल तय नहीं हुआ है। एमएचआरडी ने शिक्षा विभाग को रिमाइंडर जारी कर जल्द मास्टर ट्रेनर की सूची भेजने को कहा है। लिहाजा भारत सरकार ने शिक्षकों को ट्रेनिंग में आने को लेकर प्रोत्साहित करने के लिए एक दिन के मानदेय में भी बढ़ोतरी की है। पहले जहां शिक्षकों को 300 रुपए की राशि एक दिन की ट्रेनिंग में आने के लिए दी जाती थी, अब वहीं राशि 500 तक बढ़ा दी गई है। जानकारी के अनुसार शिक्षा विभाग को जुलाई तक मास्टर ट्रेनर का नाम भारत सरकार को भेजना होगा, उसके बाद एनसीईआरटी के माध्यम से भारत सरकार द्वारा शिक्षकों को स्पेशल प्रशिक्षण दिया जाएगा। बता दें कि प्रदेश के शिक्षकों को टीचर ट्रेनिंग के लिए जल्द मास्टर ट्रेनर मिलेंगे। शिक्षा विभाग ने सभी जिलों से ट्रेनर को तलाशने का कार्य शुरू कर दिया है।  खास बात यह है कि शिक्षकों को ट्रेनिंग देने के लिए मास्टर ट्रेनरों का चयन शैक्षणिक योग्यता और वरिष्ठता के आधार पर होगा। वहीं उन शिक्षकों को मास्टर ट्रेनर का दर्जा मिलेगा, जिन्होंने अपने कार्यकाल में छात्रों को रोचक तरीके से पढ़ाने का कार्य किया होगा। दरअसल प्रदेश में शिक्षकों को दी जाने वाली ट्रेनिंग में अब सुधार होगा। एक ही पैटर्न पर शिक्षकों को देश भर में ट्रेनिंग दी जाएगी, जिसमें पहले मास्टर ट्रेनरों को एनसीईआरटी ट्रेनिंग देगा, जिसके बाद यह ट्रेनर ही प्रदेश के अन्य शिक्षकों को ट्रेनिंग देंगे। केंद्र से मिले निर्देशों के बाद अब प्रदेश शिक्षा विभाग ने इस पर काम करना भी शुरू कर दिया है। विभाग की ओर से मास्टर ट्रेनर्ज की सूची तैयार की जा रही है, जिन्हें एनसीईआरटी से ट्रेनिंग दिलवाई जाएगी। यह ट्रेंनिंग लेने के बाद मास्टर ट्रेनर ही हर एक जिला में शिक्षकों को पढ़ाने के नए तौर तरीकों के बारे में बताएंगे। अभी तक जहां प्रदेश शिक्षा विभाग शिक्षकों को ट्रेनिंग देने वाले मास्टर ट्रेनरों को डाइट केंद्रों के माध्यम से ट्रेनिंग दे रहा था, वहीं केंद्र के निर्देशों पर अब इसमें पहली मर्तबा बदलाव किया जा रहा है।

You might also like