अवैध मलबा फेंकने पर ग्रामीण डीसी के द्वार

रिकांगपिओ—किन्नौर जिला के रामनी गांव के लिए निर्माणाधीन सड़क कार्य के दौरान अवैध रूप से मलबा फेंके जाने से क्षेत्र में चरागाह को हो रहे नुकसान को लेकर एक प्रतिनिधि मंडल ने उपायुक्त किन्नौर को ज्ञापन सौंपा। प्रतिनिधिमंडल में सेवानिवृत्त अधिशाषी अभियंता पीडब्ल्यूडी गुमान नेगी सहित जानी गांव की करीब एक दर्जन महिलाएं भी थीं। प्रतिनिधिमंडल ने एसडीएम के माध्यम से डीसी किन्नौर को दिए ज्ञापन में बताया कि सड़क निर्माण कार्य में लगे ठेकेदार द्वारा आए दिन शक्तिशाली विस्फोटी करने से जंगल में चर रहे पशुओं में अफरा-तफरी बनी रहती है। ग्रामीणों के कई पशु बीते कई दिनों से लापता है। उन्होंने कहा कि इसकी सूचना पुलिस को भी दी गई है बावजूद इसके अब तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं हो पा रही है। उन्होंने यह भी बताया कि जंगल में अवैध रूप से मलवा फेंके जाने से चरागाह भी तेजी से खत्म होता जा रहा है। प्रतिनिधिमंडल द्वारा किन्नौर प्रशासन को दिए गए ज्ञापन में यह भी बताया गया है कि जिस संपर्क सड़क का निर्माण किया जा रहा है व पूरी तरह गैर कानूनी तरीके से हो रहा है। प्रतिनिधिमंडल ने किन्नौर प्रशासन से मांग की है कि जब तक इस मामले पर सभी औपचारिकताएं पूरी नहीं होंती तब तक निर्माण कार्य को रोके जाने की मांग की है।

You might also like