आंगनबाड़ी में स्मार्ट फोन

नाहन—सिरमौर जिला में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को शीघ्र ही स्मार्ट फोन उपलब्ध करवाए जाएंगे, ताकि जिला के सभी 1486 आंगनबाड़ी केंद्रों की गतिविधियों का ऑनलाइन आकलन किया जा सके। यह जानकारी उपायुक्त सिरमौर ललित जैन ने शुक्रवार को यहां पोषण अभियान के लिए गठित  जिला स्तरीय अभिसरण कमेटी की अध्यक्षता करते हुए दी। उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को दिए जाने वाले स्मार्ट फोन में महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा तैयार की गई ऐप को डाउनलोड किया जाएगा, जिस पर सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ऑनलाइन बच्चों की हाजिरी, बच्चों को दिए जा रहे संतुलित आहार, बच्चों का वजन, ऊंचाई इत्यादि का डाटा ऑन किया जाएगा, जिसका राज्य एवं जिला स्तर पर अधिकारियों द्वारा आकलन  किया जाएगा। उपायुक्त ने बताया कि प्रथम चरण में जिला में कार्यरत सभी बाल विकास परियोजना अधिकारी और पर्यवेक्षकों को ऐप के इस्तेमाल बारे प्रशिक्षित किया जाएगा। तदुपरांत सीडीपीओ और पर्यवेक्षक अपने-अपने विकास खंड में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण देंगे। पोषण अभियान पर उपायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि आशा वर्कर के माध्यम से छह मास से तीन वर्ष की आयु वर्ग के बच्चों को घर पर जाकर आयरन सिरप उपलब्ध करवाया जाए। उन्होंने सभी सीडीपीओ को निर्देश दिए कि छोटे बच्चे की माता जब माह की प्रथम तारीख को राशन लेने के लिए आंगनबाड़ी केंद्र में आए तो उस दौरान धात्री माता से आशा वर्कर द्वारा दिए जाने बारे आयरन सिरप पुष्टि अवश्य की जाए।  उपायुक्त ने शिक्षा विभाग को निर्देश दिए कि स्कूलों में आयोजित की जाने वाली एसएमसी की बैठकों में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ बारे व्यापक प्रचार किया जाए तथा बच्चों व गर्भवती महिलाओं को आंगनबाड़ी केंद्र के माध्यम से दी जा रही विभिन्न सुविधाओं बारे भी जानकारी दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि सूचना, शिक्षा संचार कार्यक्रम के फलस्वरूप जिला में कन्या जन्म दर में आशातीत वृद्धि दर्ज हुई है और वर्तमान में सिरमौर जिला में कन्या जन्म दर एक हजार पुरुषों के मुकाबले 963 हो गई है। जिला कार्यक्रम अधिकारी आईसीडीएस मदन चौहान ने बैठक में आए सभी सरकारी और गैर सरकारी सदस्यों का स्वागत किया।  बैठक में सचिव जिला विधिक साक्षरता सेवाएं बसंत वर्मा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र ठाकुर, जिप सदस्य प्रताप तोमर, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. केके पराशर के अतिरिक्त जिला में कार्यरत सभी सीडीपीओ और अन्य अधिकारियों ने भाग लिया।

You might also like