आईईसी यूनिवर्सिटी में आईबीएम के सहयोग से सेमिनार

बीबीएन—अटल शिक्षा कंुज कालूझिंडा स्थित आईईसी यूनिवर्सिटी में विश्व की नंबर एक आईटी कंपनी, आईबीएम के सहयोग से एक दिवसीय सेमिनार का आयोजन किया गया। आईबीएम कंपनी के साथ हाल ही में हुए करार के तहत आईईसी यूनिवर्सिटी इस सत्र से दो नए विषय शुरू करने जा रही है । इस संबंध में जानकारी देते हुए आईबीएम के को-सर्वेयर डिजाइनर अनंत कुलकर्णी ने बताया कि इस शैक्षणिक सत्र से आईईसी यूनिवर्सिटी में बीटेक कम्प्यूटर साइंस में इंटरनेट ऑफ थिंग्स और डाटा एनालिटिक्स की स्पेशलाइजेशन के साथ-साथ नए कोर्सेज करवाए जाएंगे। इन विषयों को आधुनिक समय की मांग को देखते हुए डिजाइन किया गया है, जिसमें सेंसर टेक्नोलॉजी, क्लाउड आर्टिटेक्चर, बिग डाटा एनालिसिस व वायरलेस तकनीक जैसे कई अत्याधुनिक विषयों को पाठ्यक्रम में सम्मिलित किया गया है । आईईसी विश्वविद्यालय के कुलपति डा. अभय कुमार ने बताया कि आईईसी हिमाचल में एक मात्र यूनिवर्सिटी है जहां आईबीएम के सहयोग से इंटरनेट ऑफ थिंग्स और डाटा एनालिटिक्स की स्पेशलाइजेशन के कोर्सेज शुरू किए गए हैं। उन्होंने बताया की विश्वविद्यालय के इस कदम से रोजगार की संभावनाएं बढें़गी और छात्रों को अत्याधुनिक तकनीक द्वारा विश्वस्तरीय कंपीटीशन के लिए तैयार किया जा सकेगा। इस अवसर पर आईबीएम के हैड- करियर सर्विसेज ऋतुराज जुनेजा ने बताया कि 108 साल पहले स्थापित आईबीएम कंपनी आज 177 देशों में सफलतापूर्वक काम कर रही है और आईटी के क्षेत्र में नौकरी देने, नई तकनीक विकसित करने और पेटेंट में हमेशा अग्रणी रही है। आईबीएम रीजनल डायरेक्टर स्मार्ट ट्रांसफॉर्मेशन विकास सारस्वत ने आईईसी यूनिवर्सिटी के प्रयासों की सराहना की और बताया कि आईबीएम कंपनी, आईईसी विश्वविद्यालय में आधुनिक प्रयोगशाला स्थापित करने, टीचर ट्रेंनिंग व स्टूड्ेंट ग्रूमिंग के साथ हर संभव सहयोग के लिए तत्पर है ।

You might also like