आज दुबई से मुंबई पहुंचेंगे मुख्यमंत्री जयराम

आर्थिक राजधानी में निवेशकों के साथ होगी बैठक, 29 को शिमला लौटेगी सरकार

शिमला —निवेश लाने को यूएई गई सरकार गुरुवार को मुंबई पहुंच जाएगी। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का दुबई का दौरा बुधवार को पूरा हो गया है। गुरुवार को मुंबई में निवेशकों के साथ बैठक रखी गई है, जिसके बाद 29 जून को सीएम अपनी टीम के साथ वापस शिमला लौटेंगे। उधर, दुबई में निवेश को रिझाने के लिए सीआईआई हिमाचल चैप्टर के सहयोग से रोड शो किया गया, जिसमें सीएम जयराम ठाकुर, उद्योग मंत्री बिक्रम ठाकुर व अन्य अधिकारी मौजूद रहे। उद्यमियों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल में निवेश की अपार संभावनाएं विद्यमान हैं तथा सरकार ने निवेशकों को आकर्षित करने के लिए अनेक कदम उठाए हैं। उन्होंने उद्यमियों से आगे आकर इन अवसरों का लाभ उठाने का आह्वान किया। इस समारोह का आयोजन इंडियन बिजनेस एंड प्रोफेशनल कॉउंसिल (आईबीपीसी) द्वारा किया गया। राज्य सरकार द्वारा निवेश के लिए बनाई जा रही बेहतर नीतियों पर प्रकाश डालते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार निवेशकों को राज्य में निवेश करने के लिए अनेक प्रोत्साहन व सुविधाएं प्रदान कर रही है।  उन्होंने संयुक्त अरब अमिरात के लोगों की कुशलता से कार्य करने की भावनाओं की भी भूरि-भूरि प्रशंसा की। जयराम ठाकुर ने कहा कि राज्य के पास अनके विशेषताएं हैं, जिससे निवेशकों को आकर्षित करने के सरकार के प्रयास फलीभूत होंगे। उन्होंने यूएई के लोगों को ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट में शामिल होने और हिमाचल प्रदेश में निवेश करने के लिए भी आमंत्रित किया। उद्योग मंत्री बिक्रम ठाकुर ने यूएई में रह रहे विभिन्न राज्यों के भारतीयों की अपने देश के सतत विकास के प्रति भावनाओं की सराहना की। वहां भारत के राजदूत नवदीप सूरी ने यूएई और भारत के बीच प्रगाढ़ एवं निरंतर बढ़ते संबंधों के बारे में विस्तार से प्रकाश डालते हुए कहा कि दोनो देशों के शीर्ष नेताओं के घनिष्ठ व्यक्तिगत संबंधों के कारण द्विपक्षीय संबंध नई ऊंचाईयों तक पहुंचे हैं।

बाल्दी ने दिया ब्यौरा

अतिरिक्त मुख्य सचिव डा. श्रीकांत बाल्दी ने आयुष, वेलनेस और रियल ईस्टेट में निवेश की संभावनाओं की विस्तार से प्रस्तुति दी। उन्होंने आयुर्वेद में निवेशकों को आकर्षित करने के लिए राज्य के स्वस्थ पर्यावरण, विशाल वन संपदा आदि के बारे में बताया।

उद्योग की बात

अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग मनोज कुमार ने भी हिमाचल में निवेश के विभिन्न अवसरों पर एक प्रस्तुति दी। उन्होंने निवेशकों को आकर्षित करने के लिए राज्य द्वारा किए गए सुधारों जैसे एकल खिड़की स्वीकृतियां, भूमि बैंक निर्माण और राज्य द्वारा प्रदान किए जा रहे विभिन्न प्रोत्साहनों के बारे में बताया।

You might also like