आठ उद्योगों पर गाज

पर्यावरण की अनदेखी पर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने नहीं दी एनओसी

 शिमला –प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने आवेदनों में खामियां पाए जाने पर आठ उद्योगों की एनओसी देने से इनकार कर दिया है। बोर्ड ने उन औद्योगिक इकाइयों के आवेदनों को नामांजूर किया है, जिन्होंने उद्योग लगाने के लिए प्रदेश के वातावरण को ध्यान में रखकर बनाए नियम अनदेखा किए थे। यही नहीं, जानकारी यह भी है कि एनओसी न मिलने वाले उद्योगों में दो बड़ी इकाइयां भी शामिल है। बाकी छह इकाइयां छोटी हैं। बता दें कि उद्योगों को स्थापित करने के लिए बोर्ड के  नियमों के तहत यह साफ किया गया है कि यदि हिमाचल के पर्यावरण पर उद्योग लगाए जाने का कोई दुष्प्रभाव पड़ता है, तो उसे प्रदेश में कोई स्थान नहीं दिया जाएगा। बताया जा रहा है कि इन औद्योगिक इकाइयों में इस वर्ष यह आवेदन औद्योगिक कंपनी के अधिकारियों ने सौंपे थे, जिसमें सूचना है कि बोर्ड ने जगहों का जायजा भी लिया, लेकिन पर्यावरण बचाव को लेकर बोर्ड की शर्तों के मुताबिक ये साफ किया गया है कि संबंधित उद्योगों ने नियमों के तहत आवेदन नहीं दिए हैं। लिहाजा इनके आवदेन को उद्योग लगाने के लिए नामांजूर किया गया है। फिलहाल जिन उद्योगों को मंजूरी नहीं मिली है उन्होंने बद्दी, नालागढ़ व सोलन में ही औद्योगिक इकाइयों की स्थापना करनी थी। वहीं, बोर्ड के सदस्य सचिव डा. आरके प्रूथी ने बताया कि नए उद्योगों क ी स्थापना के लिए वाटर एंड एयर एक्ट के तहत एनओसी दी जाती है। जो नियम को फॉलो नहीं करते हैं, उन्हें उद्योग लगाने के लिए एनओसी नहीं दी जाती है। उन उद्योगों को एनओसी नहीं गई हैं, जो नियम के तहत उद्योगों को खोलने के लिए आवेदन नहीं कर रहे हैं।

You might also like