आठ किलोमीटर ट्रैफिक जाम…

समर सीजन में 50 किलामीटर सफर को रोहतांग सड़क पर लग रहे आठ से दस घंटे

मनाली—देश-विदेश से मनाली घूमने आने वाले सैलानियों का स्वागत पर्यटक नगरी में टैफिक जाम कर रहा है। समर सीजन में हालात ऐसे हो गए हैं कि मनाली से रोहतांग के 50 किलो मीटर का सफर तय करने के लिए आठ से दस घंटे लग रहे हैं। कारण है मनाली-रोहतांग सड़क पर घंटांे ट्रैफिक जाम लगना। रविवार को भी रोहतांग दर्रे पर करीब आठ किलो मीटर लंबा टै्रफिक जाम लगने से सैलानियों को घंटों सड़क पर फंसे रहने के लिए मजबूर होना पड़ा। हैरानी तो इस बात की है कि समर सीजन को लेकर प्रशासन द्वारा की गई सारी तैयारियां बैठकों में ही हो पाई, जबकि न तो मनाली-रोहतांग सड़क पर नया ट्रैफिक प्लान काम आया और न ही मनाली शहर को सीजन में ट्रैफिक जाम छोड़ पाया। ऐसे में रोहतांग जाने के लिए जहां सैलानियों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। रविवार को छुट्टि का दिन होने के कारण जहां रोहतांग के दीदार करने के लिए हजारों लोग मनाली से रवाना हुए थे, वहीं ब्यास नाला से राहला फॉल तक करीब आठ किलो मीटर इस दौरान ट्रैफिक जाम लगा रहा। ऐसे में महज 50 किलो मीटर का सफर तय करने के लिए सैलानियों को आठ से दस घंटे लग गए। यहां बता दें कि रोहतांग जाने के लिए सैलानी जहां आधी रात को होटलों से रवाना होते हैं, वहीं दर्रे पर पार्किंग की उचित व्यवस्था न होने व दर्रे के कुछ क्षेत्र में सड़क काफी तक होने के कारण यहां वाहन फंस रहे और देखते ही देखते यह समस्या ट्रैफिक जाम का चेहरा अपना रही है। ऐसा नहीं है कि मनाली-रोहतांग सड़क पर ट्रैफिक जाम की समस्या इस सीजन में ही पेश आई हो। यहां हर सीजन में यही हाल देखने को मिलता है। लिहाजा इस बार जहां प्रशासन मनाली-रोहतांग सड़क पर ट्रैफिक जाम न लगने के बढ़े-बढ़े दावे कर रहा था और रोहतांग के लिए नया ट्रैफिक प्लाना तैयार किया गया था, वहीं सीजन के रफ्तार पकड़ते ही प्रशासन की सारी व्यवस्थाएं धरी की धरी रह गई और रोहतांग दर्रे पर लगने वाला ट्रैफिक जाम सैलानियों के लिए सबसे बड़ी आफत बन गया। रविवार को ब्यास नाला से राहला फॉल तक लगे करीब आठ किलो मीटर लंबे ट्रैफिक जाम में घंटों सैलानी फंसे रहे। मनाली से सुबह आठ बजे रोहतांग के लिए रवाना हुए सैलानी रात दो बजे वापस मनाली पहुंच पाए। ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि मनाली-रोहताग सड़क पर ट्रैफिक जाम की क्या हालत है। हलांकि पुलिस प्रशासन का कहना है कि मनाली-रोहतांग सड़क पर ट्रैफिक व्यवस्था बनाने के लिए पुलिस के अतिरिक्त जवान तैनात किए गए हैं,लेकिन यहां लग रहे ट्रैफिक जाम ने पुलिस के इस दावे की भी पोल खोल कर रख दी है। उधर, टैक्सी चालकों का कहना है कि मनाली से रोहतांग जाने के लिए सीजन के दौरान आठ से दस घंटे लग रहे हैं। उनका कहना है कि दर्रे के कुछ स्थलों पर जहां सड़क काफी तंग है, वहीं सड़क की हालत भी काफी खराब है। ऐसे में ट्रैफिक जाम लगना लाजमी है। उनका कहना है कि दर्रे पर पुलिस जवानों की संख्या बढ़ाई जाए, ताकि यहां पर टै्रफिक जाम से सैलानियों को जुझना न पड़े। बहरहाल रविवार को मनाली-रोहतांग सड़क पर आठ किलो मीटर लंबा टै्रफिक जाम लगा रहा।

You might also like