आधार की पड़ताल करेगी सीबीआई

स्कॉलरशिप घोटाले में जांच एजेंसी ने शिक्षण संस्थानों से मांगा रिकार्ड

शिमला – 250 करोड़ से अधिक के कथित छात्रवृत्ति घोटाले में सीबीआई ने 22 निजी शिक्षण संस्थानों से छात्रों के आधार नंबर मांगा है। छात्रवृत्ति केस में आधार नंबर और मोबाइल नंबर के दुरुपयोग से करोड़ों रु पए की छात्रवृत्ति हड़पने का आरोप मुख्य रूप से लगे है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक शिक्षा विभाग की जांच में एक महिला ने बयान दिया था कि उसके आधार नंबर का दुरुपयोग किया गया तथा छात्रवृत्ति की राशि भी प्राप्त की गई की है। आरोप यह भी लगाया गया कि उनकी गैस की सबसिडी भी उसी खाते में जा रही है। दर्ज एफआईआर के अंतर्गत प्रथम सूचना तथ्य में सीबीआई ने इसका उल्लेख किया है। इसके साथ ही कुछ अन्य शिकायतों का भी जिक्र किया गया है, जिसमें छात्रवृत्ति न मिलने का आरोप है। इसे देखते हुए सीबीआई ने सभी 22 निजी शिक्षण संस्थानों से छात्रवृत्ति के लिए पात्र छात्रों के आधार नंबर मांगा है। उसके बाद जांच एजेंसी आगामी कार्रवाई करेगी। हालांकि जांच पूरी होने में अभी वक्त लग सकता है, लेकिन सीबीआई अपने आधार पर सभी तथ्य जुटा रही है। आरोप यह भी लग है कि विभिन्न पाठ्यक्रमों के तहत आबंटित छात्र संख्या से अधिक संख्या में छात्रवृत्तियां दी गई। यही नहीं, कुछ स्थानों पर प्रार्थना पत्रों की संख्या से अधिक संख्या में छात्रवृत्तियों का वितरण हुआ। ऐसे में सीबीआई जांच टीम सभी पहलुओं को गंभीरता से खंगाल रहीं है। सीबीआई सूत्रों के मुताबिक केंद्रीय जांच एजेंसी द्वारा अभी पड़ोसी राज्यों के संस्थानों से कब्जे में लिया गया रिकार्ड खंगाल रहीं है, इसके बाद प्रदेश में स्थापित संस्थानों से जुड़ा रिकार्ड की छंटनी होगी। इसके साथ ही एक जांच  टीम के बाहरी राज्या में भी सक्रिय होने की सूचना है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक सीबीआई जांच के तहत खंगाल रही है कि किन-किन निजी शिक्षण संस्थान में किस वर्ष कितनी-कितनी एडमिशन हुई और कितनों को छात्रवृत्ति बांटी गई।

You might also like