इस साल सेब की बंपर फसल की आस

 शिमला  —हिमाचल प्रदेश में कई क्षेत्रों में भले ही तूफान व ओलावृष्टि ने बागबानों की कमर तोड़ कर रख दी हो, लेकिन हिमाचल में इस साल भी सेब की बंपर फसल होेने की उम्मीदें लगाई जा रही हैं। दुनिया भर में मशहूर हिमाचली सेब के साढे़ तीन लाख बॉक्स के उत्पादन की उम्मीदें लगाई जा रही हैं। बागबानी विभाग द्वारा लगाए गए आकलन के तहत हिमाचल में 3.69 तक के सेब बॉक्स का उत्पादन होगा। हिमाचल प्रदेश में विंटर सीजन के दौरान अच्छी बारिश व बर्फ बारी होने से विभाग ने राज्य में इस साल करीब पांच करोड़ के सेब बॉक्स उत्पादन तक का आकलन लगाया था, मगर प्रदेश के अधिकतर क्षेत्रों में फ्लावरिंग के समय ठंड पड़ने, अप्रैल व मई माह के दौरान हुई भारी ओलावृष्टि से सेब की करोड़ों रुपए की फसल तबाह हो गई। राज्य में अभी तक लगाए गए आकलन के तहत करीब 40 करोड़ रुपए की फसल बर्बाद हो चुकी है, मगर इसके बावजूद राज्य में साढ़े तीन करोड़ से अधिक की फसल होने की संभावना जताई जा रही है। यह राज्य के बागबानों के लिए राहत भरी खबर है। राज्य में अच्छी पैदावार से जहां बागबानों की अच्छी आय होगी, इससे प्रदेश की आर्थिकी को भी बढ़ावा मिलेगा। बागबानी विभाग द्वारा लगाए गए आकलन के तहत इस साल सेब की सबसे ज्यादा पैदावार जिला शिमला में होगी, जबकि सबसे कम उत्पादन का आकलन लाहुल-स्पीति में लगाया गया है। वहीं हिमाचली सेब रसीला होता है। यहा का सेब रसीला होने के साथ-साथ ज्यादा समय तक भी टिकता है। हिमाचल में बागबानों द्वारा तरह-तरह की सेब वैरायटियां तैयार की जा रही हैं, मगर हिमाचल का रॉयल ओर गोल्डन सेब दुनिया भर में मशहूर है।

प्रदेश में सेब बॉक्स के अनुमानित आंकड़े

जिला      अनुमानित

शिमला    दो करोड़

कुल्लू़      75 लाख

मंडी       35 लाख

चंबा       16 लाख

किन्नौर    32 लाख

ला.-स्पीति            14 हजार

सेब का उत्पादन

वर्ष        बॉक्स

            करोड़ों में

2008      2.55

2009     1.40

2010      4.46

2011      1.38

2012      2.06

2013      3.69

2014      3.12

2015      3.88

2016      2.34

2017      2.33

2018      2.23

You might also like