उत्तराखंड सीएम ने लिया शतचंडी यज्ञ में भाग

देहरादून – मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत बुधवार को श्री तुंगनाथ महायज्ञ समिति द्वारा ग्राम बेंजी रुद्रप्रयाग में ज्योतिष पीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वामी माधवाश्रम जी महाराज की पुण्य स्मृति में में आयोजित श्रीमदभगवद्, श्री शिव पुराण, शतचंडी यज्ञ में शामिल हुए। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने 16वी से 18वीं सदी तक की पर्वतीय लोक संग्रहालय में रखी गई हस्तलिखित पांडुलिपि, हस्तलिखित पंचाग, शुक्ल यजुर्वेद सहिंता, अगस्त्य संहिता, गढवाली साबर आदि पुस्तकों व बर्तनों का अनावरण किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जनता को गंगा दशहरा की शुभकामनाएं देते हए कहा कि ग्राम बेंजी की पवित्र भूमि ने वेदांत के परकांड विद्वान माधवाश्रम जी महाराज का जन्म हुआ था। हमारी पौराणिक परंपरा श्रुति (वेद) का अनुसरण आज भी इस गांववासियों द्वारा किया जा रहा है, जो अपने आप विश्ष्टि है। उन्होंने कहा कि देश-काल, परिस्थिति के अनुरूप धर्मगुरुओं ने राष्ट्र व राज्य को अपना मार्गदर्शन दिया है। शंकराचार्य स्वामी माधवाश्रम जी महाराज विलक्षण प्रतिभा के धनी थे।

You might also like