ऊना में आग उगल रहे सूर्य देव

 जोल—जिला ऊना में इन दिनों सूर्य देव आग उगल रहे हैं। ऐसे में स्कूली बच्चों का स्कूल की छुट्टी के बाद घर पहंुचना आफत बन गया है। हालांकि जिला प्रशासन ने स्कूलों के समय में फेरबदल कर सुबह नौ से तीन बजे के स्थान पर आठ से दो बजे किया गया है, लेकिन उक्त समय को बुद्धिजीवी वर्ग ने गलत ठहराया है। बुद्धिजीवी वर्ग का कहना है कि दो बजे सूर्य देव पूरी तरह से आग उगल रहे होते हैं और ऐसे में बच्चों को घर पहंुचना बहुत मुश्किल हो रहा है। उन्होंने कहा कि अगर स्कूल का समय नौ से तीन बजे तक ही रहने दिया जाए तो बच्चों का कुछ हद तक राहत मिलेगी। क्योंकि तीन बजे तक तापमान में कुछ कमी आनी शुरू हो जाती है।  बुद्धिजीवी वर्ग के सुभाष गर्ग, किरपाल सिंह, गोल्डी दयाल, चरणदास, जोगिंद्र सिंह, पंकज शर्मा, हिमांशु परमार, मौजा राम, कृष्ण अवतार आदि ने बताते हुए कहा कि प्रशासन की और स्कूलों की समयसारिणी को बदलकर जहां बच्चों को राहत प्रदान करने की कोशिश तो गई, परंतु दोपहर दो बजे जब बच्चों को छुट्टी की जाती है। उस समय गर्मी अपने उच्च तापमान पर होती है। बच्चों को घर जाने के लिए भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इन लोगों ने कहा की निजी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के लिए तो स्कूलों के द्वारा बस सुविधा दी जाती है, परंतु सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चो के लिए किसी प्रकार की कोई बस सुविधा न होने के चलते उन्हें भरी दोपहर में अपने बैग उठाकर घर तक पहुंचना पड़ रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में तो बच्चों के लिए सबसे ज्यादा समस्या उत्पन्न हो रही है। जहां दो बजे के बाद कोई भी बस सुविधा न होने के चलते बच्चों को कई किलोमीटर तक पैदल जाना पड़ रहा है। इसके चलते बच्चों के स्वास्थ्य पर विपरीत असर पड़ रहा है। इन लोगों ने प्रशासन से मांग करते हुए कहा की पहले स्कूल नौ बजे से शुरू होकर तीन बजे छुट्टी होती थी, तब तक तापमान में भी कमी आनी शुरू हो जाती है। अतः प्रशासन को बच्चों के बेहतरी के लिए पुनर्विचार कर उचित निर्णय लेने के लिए सोचना चाहिए।

You might also like