ऊना में ईओ का कार्यभार संभालेंगे तहसीलदार

ऊना—नगर परिषद ऊना एक बार फिर उधार के ईओ से काम चलाएगी। नगर परिषद ऊना में स्थायी ईओ का स्थानांतरण होने के बाद कोई भी स्थायी अधिकारी की तैनाती नहीं हो पाई है। पिछले करीब एक साल से ईओ का पद खाली चल रहा है, लेकिन अभी तक इस पद को भरने के लिए सरकार ने कोई खासी दिलचस्पी नहीं दिखाई है। शनिवार को तहसीलदार ऊना नारायण चौहान ने बतौर ईओ ऊना के तौर पर अतिरिक्त कार्यभार संभाला। इससे पहले एसडीएम ऊना, ईओ टाहलीवाल के पास अतिरिक्त कार्यभार था। पिछले करीब एक साल से नगर परिषद ऊना में स्थायी ईओ नहीं मिल पा रहा है। हालांकि सरकार की ओर से अस्थायी तौर पर ईओ की तैनाती तो कर दी है लेकिन जब तक स्थायी तौर पर ईओ की तैनाती नहीं हो जाती है। तब तक विकास कार्य भी ढुलमूल रवैये से चलेंगे, लेकिन यदि यहां पर स्थायी तौर पर ईओं की तैनाती की जाती है तो विकास कार्यों को गति मिलेगी। वहीं, अन्य कर्मचारियों के कार्यों पर भी नजर रखी जा सकती है। अस्थायी तौर पर इससे पहले भी नगर परिषद ऊना में ईओ की तैनाती हो चुकी है। अतिरिक्त कार्यभार संभालने वाले अधिकारी अपने दूसरे कार्यालय के कार्यों के चलते नगर परिषद में पहुंच ही नहीं पाते हैं। यहां पर अस्थायी ईओ की कम ही आवाजाही रहती है। इसके चलते नगर परिषद कर्मियों को नगर परिषद से संबधित कार्य करवाने के लिए फाइलें इन अस्थायी ईओ के कार्यालय तक भी पहुंचानी पड़ती है। ऐसे में जहां कर्मचारियों के समय की बर्बादी होती है वहीं, यदि अधिकारी किसी अन्य कार्य के लिए अपने कार्यालय से बाहर चलें जाएं तो फाइलें वैसे की वैसी ही पड़ी रहती है। इसके चलते नगर परिषद ऊना में सरकार को स्थायी ईओ की तैनाती करनी चाहिए। बहरहाल, नगर परिषद ऊना को लंबे समय बाद अस्थायी ईओ मिला है। जब तक स्थायी तैनाती नहीं हो जाती है तब अस्थायी अधिकारी से काम चलेगा। उधर, नगर परिषद अध्यक्ष अमरजोत सिंह वेदी ने कहा कि नगर परिषद में अस्थायी तौर पर ईओ की तैनाती हुई है। उन्होंने कहा कि तहसीलदार ऊना ने अतिरिक्त कार्यभार संभाला है। वहीं, नगर परिषद ऊना के अतिरिक्त कार्यकारी अधिकारी नारायण चौहान ने कहा कि आम जनता की समस्याओं के साथ ही नगर परिषद में विकास कार्यों को सिरे चढ़ाया जाएगा।

You might also like