ऊना में 100 से ज्यादा झुग्गियां राख

सुबह-सवेरे प्रवासियों के आशियाने जले, दस लाख से ज्यादा का नुकसान

ऊना –ऊना में रविवार सुबह आग लगने से प्रवासी मजदूरों की 100 से ज्यादा झुग्गियां जलकर राख हो गईं। गनीमत रही कि इस हादसे में कोई जानी नुकसान नहीं हुआ। आग लगने के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल पाया है। करीब तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद अग्निशमन केंद्र के दलबल ने मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाया। जानकारी के अनुसार रविवार सुबह करीब दस बजे हरोली विधानसभा क्षेत्र के तहत घालुवाल में स्वां नदी किनारे रह रहे प्रवासी मजदूरों की झुग्गियां में अचानक आग लग गई और देखते ही देखते करीब 100 झुग्गियां राख हो गईं। इस दुर्घटना में 10 लाख रुपए से अधिक के नुकसान का अनुमान है। इस भीषण अग्निकांड में प्रवासी मजदूरों की नकदी और घरेलू सामान भी जलकर राख हो गया। आग की चपेट में एक मोटरसाइकिल भी आया है।  इस दौरान अफरा-तफरी मची रही।  हालांकि लोगों ने आग को नियंत्रित करने के प्रयास किए, लेकिन सभी प्रयास असफल रहे। देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया और पल भर में ही इन प्रवासी मजदूरों की मेहनत राख हो गई। घटना की सूचना किसी राहगीर ने अग्निशमन केंद्र ऊना को दी, जिसके चलते अग्निशमन टीम मौके पर पहुंची। आग पर नियंत्रण के लिए इस टीम को भी कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। बता दें कि जिला में इस बार अधिकतर आग की घटनाएं प्रवासी मजदूरों की झुग्गियां जलने की ही हुई हैं। झुग्गियों में आग लगने का सिलसिला बंद ही नहीं हो रहा है। झुग्गियों में आग की घटना होने के बाद प्रशासन सहित अन्य लोग इनकी मदद को हाथ आगे बढ़ाते हैं, लेकिन इन लोगों को जागरूक करने के लिए किसी तरह के भी उचित कदम नहीं उठाए जाते हैं। जागरूकता का अभाव भी इन आग की घटनाओं में कारण माना जा रहा है, जिसके चलते इस ओर प्रशासन को भी उचित कदम उठाने चाहिए। बहरहाल, आग की इस घटना ने सौ परिवारों को नुकसान पहुंचाया है। जिला अग्निशमन केंद्र प्रभारी  नितिन धीमान ने बताया कि आग की घटना में करीब सौ झुग्गियां जली हैं। इसमें लाखों का नुकसान हुआ है।  उधर, हरोली के एसडीएम गौरव चौधरी ने बताया कि आग की घटना के पीडि़त परिवारों को चिन्हित किया जा रहा है। प्रशासन द्वारा इन अग्निपीडि़तों को जल्द ही आर्थिक सहायता भी मुहैया करवाई जाएगी।

बेटियों की शादी के लिए रखी थी नकदी-गहने

एक महिला द्वारा अपनी चार बेटियों की शादी के लिए गहने और नकदी बचाकर रखी थी। महिला का दावा है कि उसका अकेली का ही करीब सात लाख का नुकसान हुआ है। इसमें 90 हजार रुपए की नकदी भी है। घर का सारा सामान जलकर राख हो गया।

बड़ी घटना होने पर दमकल वाहनों की कमी

जिला में आग की बड़ी घटना होने पर दमकल वाहनों की कमी रहती है। वहीं, अग्निशमन केंद्रों में चल रही स्टाफ की कमी भी दिखाई देती है। ऐसे में अधिकतर ऐसी घटनाओं में अन्य केंद्र से दमकल वाहन मंगवाने पड़ते हैं, लेकिन इसके बावजूद सरकार इस ओर उचित कदम नहीं उठा रही है।

 

You might also like