एईआरबी ने जांचा टांडा मेडिकल कालेज

लीनियर एक्सीलेटर के साथ रेडिएशन वाले उपकरणांे का भी किया निरीक्षण

टांडा -एटोमिक एनर्जी रेगुलेटरी बोर्ड (एईआरबी) की टीम ने मंगलवार को डा. राजंेद्र प्रसाद मेडिकल कालेज एवं अस्पताल टांडा का दौरा किया। टीम ने अस्पताल में करीब दो माह पहले ही शरू किए गए लीनियर एक्सीलेटर सहित अन्य रेडिएशन उत्पन्न करने वाले उपकरणांे की जांच की। इस दौरान टीम ने रेडिएशन से बचाव के लिए किए प्रबंधांे को भी परखा है। टीम द्वारा टांडा अस्पताल में रेडिएशन पैदा करने वाले उपकरणांे से लोगांे के बचाव को किए जा रहे प्रबंधांे के आधार पर ही बोर्ड द्वारा इन मशीनांे के संचालन को लेकर जारी किए गए सर्टिफिकेट को रिन्यू किया जाएगा। जानकारी के अनुसार एईआरबी द्वारा स्वास्थ्य संस्थानांे में एक्सरे, अल्ट्रासाउंड, एमआरआई, लीनियर एक्सीलेटर सहित रेडिएशन उत्पन्न करने वाली मशीनांे के संचालन को लेकर मंजूरी प्रदान करता है। अस्पतालों में मरीजांे को सुविधा देने वाली इन मशीनांे को आपरेट करने के लिए सुरक्षा व्यवस्थाआंे को भी बोर्ड द्वारा जांचा जाता है। बोर्ड द्वारा निर्धारित किए गए बिंदुआंे के अनुसार मशीनांे के संचालन के आधार पर ही इनको आपरेट करने के लिए बोर्ड सर्टिफिकेट प्रदान करता है। करीब दो माह पहले ही टांडा अस्पताल में कैंसर के मरीजांे को बेहतर उपचार प्रदान करने के लिए लीनियर एक्सीलेटर मशीन को शुरू किया गया था। इसमें कैंसर के मरीजांे को सेंकाई की सुविधा रेडिएशन के द्वारा दी जाती है। उपचार के लिए प्रयोग की जाने वाली यह रेडिएशन आम लोगांे के लिए काफी नुकसानदायक होती हैं। ऐसे में अस्पताल में उपचार के लिए प्रयोग की जा रही रेडिएशन से लोगांे के बचाव के लिए क्या-क्या व्यवस्था की गई है, इन सभी व्यवस्थाआंे को जांचा गया है। अब टीम द्वारा बोर्ड मुख्यालय में सौंपी जाने वाली रिपोर्ट के आधार पर ही टांडा अस्पताल को प्रदान किए गए सर्टिफिकेट को रिन्यू करने की मंजूरी मिलेगी। जिसके आधार पर अस्पताल में मरीजांे को सुविधा प्रदान करने वाली मशीनांे का संचालन किया जा सकेगा। टीएमसी के पिं्रसीपल डा. भानू अवस्थी ने बताया कि एईआरबी की टीम ने मंगलवार को अस्पताल के रेडियोलॉजी डिपार्टमेंट का दौरा किया है।

 

You might also like