एचपीयू में प्रो वीसी बनने को लॉबिंग तेज

शिमला—हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में एक बार फिर से प्रो. वीसी के पद को लेकर लॉबिंग तेज हो गई है। प्रोफेसर राजेंद्र सिंह चौहान के सेवानिवृत्त होने के बाद एचपीयू में शिक्षक  अपने फायदे के  लिए सरकार तक पहुंच लगा रहे हैं। एचपीयू का यह अहम पद वरिष्ठता के आधार पर शिक्षक को दिया जाएगा। जानकारी के अनुसार अभी एचपीयू में छह से सात शिक्षकों के नाम इस पद के लिए सामने आ रहे हैं। बता दें कि कांग्रेस के कार्यकाल में 2014 में प्रोफेसर राजेंद्र सिंह चौहान को नियुक्ति देकर इस पद पर तैनात कर इसकी शुरुआत की थी। यह कहना गलत नहीं होगा कि कुलपति के साथ ही प्रति कुलपति का पद भी सरकार के करीबी शिक्षक को ही मिलेगा। एचपीयू में कुलपति के बाद यह पद काफी अहम बनकर रह गया है। पूर्व प्रो. वीसी राजेंद्र सिंह चौहान को सेवानिवृत्ति हुए एक हफ्ते का समय बीत गया है, लेकिन एचपीयू ने भी अभी तक किसी का नाम प्रो. वीसी के लिए सरकार को नहीं भेजा है।  हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के पूर्व प्रति कुलपति प्रो. राजेंद्र सिंह चौहान  19 जून को अपना कार्यकाल पूरा कर चुके हंै। प्रोफेसर चौहान के सेवानिवृत्ति के बाद इस पद पर अगला प्रति कुलपति किसे बनाया जाएगा, फिलहाल यह निर्णय प्रदेश सरकार का होगा, लेकिन इस दौड़ में प्रदेश विश्वविद्यालय के पांच से छह शिक्षकों के नामों को लेकर अभी से चर्चा गर्म है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार प्रति कुलपति की दौड़ में प्रदेश विश्वविद्यालय के जिन शिक्षकों के नामों को लेकर चर्चा गर्म हैं इसमें डीन ऑफ स्टडीज प्रो. अरविंद कालिया, डीन ऑफ स्टूडेंट्स वेलफेयर प्रो. कमलजीत, इक्डोल के निदेशक प्रो. कुलवंत पठानिया, विवि केमिस्ट्री विभाग के  प्रोफेसर शशिकांत के अलावा लॉ विभाग के भी एक व दो प्रोफेसरों के नाम सामने आ रहे हंै।

सीएम के विदेश दौरे के बाद तय होगा प्रो वीसी के पद का नाम

बता दें कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर इन दिनों विदेश दौरे पर है। ऐसे में प्रो. वीसी के पद पर किसका नाम फाइनल किया जाएंगा, यह तो मुख्यमंत्री के शिमला आने के बाद ही तय हो पाएगा। फिलहाल सीएम जयराम ठाकुर 30 जून के बाद ही हिमाचल आएंगे। ऐसे में यह देखना अहम होगा कि प्रदेश विश्वविद्यालय के दूसरे प्रतिकुलपति के नाम पर किसकी मुहर लगती है।

You might also like