एनआईटी के सफाई कर्मचारी धरने पर डटे

हमीरपुर—राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान हमीरपुर में कंपनी द्वारा रखे गए 96 सफाई कर्मचारियों ने कंपनी पर शोषण के आरोप जड़े हैं। गुरुवार से कर्मचारी कंपनी के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं। शनिवार को तीसरे दिन भी कर्मचारी विरोध-प्रदर्शन करते रहे। उनका आरोप है कि कंपनी उन्हें मानसिक और आर्थिक रूप से प्रताडि़त कर रही है। इसकी वजह से उनके लिए काम करना मुश्किल हो गया है। जिस जॉब के लिए उन्हें रखा गया है, उसे करवाने की बजाय अन्य काम लिए जा रहे हैं। न ही उन्हें सही ढंग से वेतन दिया जा रहा है और न ही बोनस। उन्होंने चेतावनी दी है कि जब तक उनकी समस्याएं हल नहीं हो जाती, वे काम नहीं करेंगे। उन्होंने बताया कि कंपनी प्रबंधन उन्हें बेवजह तंग कर बाहर दूसरी जगहों पर ट्रांसफर कर रहा है। संस्थान में कार्यरत सफाई कर्मचारियों सुरेश, पवन, बलवीर, अश्विनी, सरोज, शकुंतला, मीरा, सुमना, राकेश, संजय, सुनील, पूनम, सुनील व मदन का कहना है कि उनका वेतन अक्तूबर 2018 में तीन रुपए बढ़ा था। उसन के बाद से मार्च में 17 रुपए बढ्े, लेकिन अभी तक 20 रुपए की बढ़ोतरी कंपनी नहीं दे रही है। दिवाली का बोनस भी आधा काटकर दिया गया है। हर माह उन्हें सिर्फ 26 दिन का वेतन ही कंपनी द्वारा दिया जाता है, जो लोग अपने हक के लिए बात रख रहे हैं उनका ट्रांसफर हमीरपुर से मोहाली किया जा रहा है, जबकि उनकी भर्ती इसी संस्थान के लिए हुई थी, अब उन्हें बेवजह तंग किया जा रहा है। 31 मई को कुछ लोगों के ट्रांसफर आर्डर आए हैं। उनका कहना है कि कंपनी के अधिकारी उनकी बात सुनने को तैयार नहीं हंै। इस कारण उन्होंने प्रदर्शन का रुख अख्तियार किया है। शनिवार को भी कर्मचारी प्रदर्शन करते रहे।

You might also like