एनजीटी को नहीं मानते पर्यावरण के शत्रु

सुंदरनगर -एनजीटी नियमों की सुंदरनगर में खुलेआम धज्जिया उड़ाई जा रही है। दशकों पुरानी चांदपुर डंपिंग साइट पिछले कई वर्षो से फूल हो चुकी है। यहां जमा हुए हजारों टन मलबे के निष्पादन के लिए शहरी विकास विभाग तमाम दावों के बावजूद कुछ भी नहीं कर पाया है। अब गले सड़े कूड़े-कचरे को साथ लगते घांघल खड्ड में धकेला जा रहा। पिछले कुछ दिनों से यहा जमे हुए कूड़े को बीबीएमबी मशीनरी साथ लगती खड्ड में धकेलने में जुटी हुई है। अभी तक बीबीएमबी मशीनरी द्वारा हजारों टन कचरा घांघल खड्ड में फेंका जा चूका है। गत रोज भी यह क्रम जारी था। बीबीएमबी ने सुंदरनगर, सलापड़ व पंडोह में स्वच्छ्ता अभियान चलाया था। लेकिन डंपिंग साइट का कचरा खड्ड में धकेलने और पांच दशक में कोई भी अपनी कूड़ा कचरा निष्पादन की कोई योजना ना बनाने से प्रबंधन की कार्य प्रणाली संदेह के घेरे में है। ऐसे में प्रबंधन द्वारा किए जा रहे तमाम स्वच्छता के दावे खोखले नजर आ रहे है। गौर रहे कि वर्ष 2014 में हिमाचल सरकार के शहरी विभाग द्वारा डच कंपनी नेक्सन नोवस कंपनी से हुए इकरार के तहत सुंदरनगर को नीदरलैंड की तर्ज पर विकसित करने की कवायद शूरु की गई थी। जिसके तहत नीदरलैंड से तकनीकी सहयोग से शहर को कचरा मुक्त करने, ठोस कचरा प्रबन्धन, मल निकासी, ऊर्जा सरंक्षण व क्षमता निर्माण जैसे महत्त्वपूर्ण विषयों पर करोड़ों  रुपए खर्च किए जाने थे। इस योजना के सर्वे के लिए ही 50 लाख रुपए का प्रावधान था। नगर परिषद द्वारा  जैविक खाद बनाने के नाम पर 13 पिट बनाए गए है लेकिन यहा छटाई की कोई भी व्यवस्था ना होने के चलते इनमें प्लास्टिक कचरा भरा गया है जिनमंे आजतक कभी कोई खाद तैयार ही नही हो पाई है। डंपिंग वार्ड की गंदगी खुलेआम खड्ड में फेंकने से यह बरसात में बह कर घांघल खड्ड, लिंड्डी खड्ड, सुकेती, कंसा व अन्य खड्डों का पानी व विभिन्न पेयजल योजनाओं को दूषित करते हुए ब्यास दरिया में मिलेगी। नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी अशोक शर्मा का कहना है कि अभी मैनुअल तरीके से डंपिंग साइट पर काम किया जा रहा है। लेकिन फिर भी डंपिंग साइट खाली नहीं हो रही है। जिस के लिए दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा हैं। ना गलने व सड़ने वाला कूड़ा बिलासपुर जिला के बरमाणा सीमेंट फैक्टरी को उपयोग के लिए भेजा रहा है। उधर,इस बारे में डा अमित शर्मा, एसडीएम सुदंरनगर का कहना है कि खड्ड में डंपिंग साइट की गंदगी धकेलने की जानकारी मिली है। मामले की छानबीन कर सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

 

You might also like