एसीआर न देने पर कार्रवाई

प्रदेश के पांच सौ टीचर और गैर शिक्षकों ने अभी तक नहीं भेजी रिपोर्ट

शिमला-देरी से एसीआर भेजने वाले अधिकारियों की अब खैरनहीं। एसीआर (एनुअल कान्फीडेंशियल रिपोर्ट) में लेटलतीफी बरतने वाले अधिकारियों पर जल्द ही कार्रवाई अमल में लाई जाने वाली है। जानकारी के मुताबिक अभी लगभग पांच सौ ऐसे शिक्षक और गैर शिक्षक हैं, जिनकी एसीआर अभी लंबित पड़ी है। अब सूचना है कि जिन अधिकारियों ने एसीआर शिक्षा विभाग भेजने में देरी की है, उन अफसरों की लिस्ट विभाग ने मंगवाई है। इनसे जवाब तलब करने के बाद विभाग आगामी कार्रवाई करने वाला है, जिसमें संबंधित अधिकारियों से पूछा जाने वाला है कि शिक्षा विभाग में कर्मचारियों की एसीआर भेजने में देरी क्यों हो रही है। उच्च शिक्षा विभाग ने भी साफ किया है कि शिक्षा क्षेत्र में कई अधिकारी एसीआर लिखने में सुस्ती दिखा रहे हैं। इन्हें दो बार रिमाइंडर भी भेज दिया गया है। इस पर कई बार शिक्षा विभाग ने उपनिदेशकों कोे आदेश जारी किए हैं, लेकिन तय समय में शिक्षकों और गैर शिक्षकों की एसीआर विभाग नहीं पहुंच रही है। इस बार विभाग ने भी साफ कर दिया है कि जो ऐसा नहीं करेगा, उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई अपनाई जाएगी, जिसकी कार्रवाई विभाग जल्द शुरू करने वाला है। शिक्षा विभाग के  मुताबिक तीस सितंबर तक गैर शिक्षक और 31 दिसंबर तक शिक्षक की एसीआर विभाग पहुंच जानी चाहिएं, लेकिन विभाग में मात्र साठ फीसदी कर्मचारी ही समय पर एसीआर भेज रहे हैं।

You might also like