ओपीडी बंद.. सिर्फ एमर्जेंसी सेवाएं

पालमपुर  —चिकित्सा पेशेवरों और हेल्थकेयर कर्मचारियों के ऊपर बार-बार होने वाले हमले की घटनाओं तथा उनका कोई संज्ञान न लेने या निवारण न हो पाने  के मद्देनजर  इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने सोमवार को सभी हेल्थकेयर संस्थानों में गैर आवश्यक सेवाओं को बंद रखा। सभी आपातकालीन कार्यात्मक सेवाएं सामान्य रूप से जारी रहीं।  प्रदेश आईएमए के अध्यक्ष डा. विनय महाजन ने पालमपुर के विवेकानंद चिकित्सा संस्थान प्रांगण में  सरकारी एवं निजी चिकित्सा संस्थानों के साथ भारी विरोध प्रकट करने के पश्चात कहा कि डाक्टरों और अस्पतालों के खिलाफ  हिंसा एक स्तर पर पहुंच गई है कि वे न केवल एक कानून और व्यवस्था की समस्या है, बल्कि वे देश की संपूर्ण हेल्थकेयर सेवाओं को नष्ट कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आईएमए ने पश्चिम बंगाल में डाक्टरों के खिलाफ  हालिया हिंसा की घोर निंदा करता है । उन्होंने कहा कि डा. परीवाह मुखर्जी ही नहीं, एक युवा रेजिडेंट पर क्रूरतापूर्वक हमला किया गया।  कई मेडिकल कालेजों और होस्टलों पर हमला किया गया और बर्बरता की गई। आईएमए राज्य सरकार द्वारा पश्चिम बंगाल की अनुकरणीय कार्रवाई की मांग करती है।  आईएमए इकाई पालमपुर के अध्यक्ष डा. मिलाप अश्वनी तथा सचिव डा. रोहित गर्ग ने कहा कि अस्पतालों में सुरक्षा बहुत चिंता का विषय रहा है और इस पर ध्यान देने और सुनिश्चित करने की आवश्यकता है। अस्पतालों को सुरक्षित क्षेत्र घोषित किया जाना चाहिए और सीसीटीवी सहित संरचित सुरक्षा निर्देशों और प्रवेश पर प्रतिबंध को समान रूप से लागू किया जाना चाहिए। 

You might also like