औट में रुकवाया बाल विवाह

26 जून को होनी थी 14 साल की मासूम की शादी

मंडी – जिला मंडी में एक और बाल विवाह करवाने का मामला सामने आया है। हालांकि गनीमत यह रही कि चाइल्ड लाइन मंडी को मामले की भनक पहले ही लग गई। जानकारी के अनुसार पहली जून को चाइल्ड लाइन मंडी को टोल फ्री नंबर 1098 के मध्यम से सूचना मिली कि जिला मंडी के उप तहसील औट के एक गांव में एक नाबालिग बालिका का विवाह जबरदस्ती करवाया जा रहा है। यही नहीं, बालिका को स्कूल भेजना बंद कर दिया था। चाइल्डलाइन मंडी से काउंसलर वीना देवी और टीम सदस्य लुदरमनी पुलिस और आंगनबाड़ी सुपरवाइजर वृत्त नगवाई के साथ मिलकर नाबालिग के घर पहुंचे। दस्तावेजों की छानबीन करने पर बालिका की आयु 14 वर्ष पाई गई। पूछताछ करने पर बालिका के माता-पिता ने बताया कि बालिका की शादी 26 जून को तय की गई थी। चाइल्डलाइन टीम द्वारा उन्हें बताया गया कि बाल विवाह कानूनी अपराध है तथा बच्चों का बाल विवाह करवाने पर परिजनों को सजा का भी प्रावधान है। चाइल्डलाइन टीम के हस्तक्षेप के बाद बालिका  के परिजनों ने आश्वाशन दिया कि वह बलिका का विवाह आयु पूरी होने के बाद ही करेंगे। बालिका चार-पांच दिन पहले अपनी बड़ी बहन के घर चली गई थी तथा अपने घर वापिस नहीं जाना चाहती है। मंगलवार को बालिका, बहन तथा उसके माता-पिता को जिला बाल कल्याण समिति मंडी के समक्ष पेश किया गया गया। बालिका के माता-पिता ने बालिका को घर ले जाने से मना कर दिया। जिला बाल कल्याण समिति द्वारा बालिका को उसकी बड़ी बहन के सुपुर्द किया गया।

You might also like