कबड्डी का सरताज बना नेरवा

नेरवा—पढ़ाई के साथ-साथ खेलों का भी विद्यार्थी जीवन में विशेष महत्व होता है। खेलों से न केवल शारीरिक विकास होता है बल्कि इससे छात्र के मानसिक एवं बौद्धिक विकास को भी गति मिलती है। खेल को हमेशा स्वस्थ व अनुशासित खेल भावना से ही खेलना चाहिए। छात्र जीवन में अपनाया गया अनुशासन ही व्यक्ति के विकास की नींव होता है व इसी से मंजिल हासिल करने की प्रेरणा मिलती है। यह शब्द चौपाल के विधायक बलवीर सिंह वर्मा ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल बिजमल में चल रही अंडर 14 छात्र वर्ग की जोन स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता के समापन अवसर पर खिलाडि़यों को सम्बोधित करते हुए कहे। उन्होंने कहा कि किसी भी क्षेत्र का छात्र खेलों अथवा किसी भी क्षेत्र में यदि बड़ी उपलब्धि हासिल करता है तो इससे उस क्षेत्र का नाम न केवल उपमंडल जिसे व प्रदेश बल्कि राष्ट्रीय स्तर भी नाम होता है। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला बिजमल के प्रांगण में चल रही इस प्रतिस्पर्धा में शिक्षा जोन के 38 स्कूलों के पांच सौ खिलाडि़यों ने भाग लिया। कबड्डी के फाइनल मैच में राजकीय आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल नेरवा ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल केदी को जमीन सुंघा कर खिताब अपने नाम किया। इसी प्रकार शेईला स्कूल ने केदी स्कूल को पटकनी देकर आखिरी मुकाबला अपने नाम किया, वहीं खो-खो में सीनियर सेकेंडरी स्कूल शामठा ने सीसे स्कूल पबाण को पछाड़ कर कर ट्रॉफी अपनी झोली में डाली। बेहतरीन खेल का प्रदर्शन करते हुए राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल नेरवा बैडमिंटन का सरताज बना। शतरंज में बानी स्कूल, फोक डांस में राजकीय आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल नेरवा, भाषण में केदी स्कूल, वोकल सोलो और गु्रप डांस में हिमाद्रि पब्लिक स्कूल नेरवा एवं अनुशासन में सोयल स्कूल ने अपने सभी प्रतिद्वंदियों पर भारी पड़ते हुए बाजी मारी। कार्यक्रम के अंत में स्कूल की छात्राओं ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश कर दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया व खूब वाहवाही लूटी। मुख्यातिथि विधायक बलवीर सिंह वर्मा ने अपनी ऐच्छिक निधि से 31 हजार रुपये देने की घोषणा की व स्कूल के मैदान के निर्माण के लिए दो लाख रुपये, दो लाख रुपये स्कूल की बॉउंड्री वाल के निर्माण एवं एक लाख रुपये फर्नीचर के लिए विधायक निधि से देने की घोषणा की। नेरवा के दूरस्थ क्षेत्र में आयोजित यह प्रतियोगिता क्षेत्रवासियों के बीच एक अलग पहचान बना गई। खास बात यह रही कि बाहर से आये सभी 500 खिलाडि़यों के रहने व नहाने धोने की व्यवस्था स्थानीय लोगों द्वारा अपने घरों में की गई थी। यही नहीं खिलाडि़यों व टीमों के साथ आये पदाधिकारियों के लिए स्थानीय लोगों द्वारा मेस में अच्छे खाने और शुद्ध घी आदि की भी व्यवस्था की गई थी। पंचायत वासियों की इस व्यवस्था ने सबका दिल जीत लिया व यहां के लोगों का हर कोई कायल होकर रह गया। प्रतियोगिता आयोजन समिति के सचिव व बिजमल स्कूल के प्रधानाचार्य दिनेश स्टेटा ने प्रतियोगिता के सफल आयोजन के लिए सभी खिलाडि़यों, खेल प्रभारियों व पंचायत वासियों का आभार व्यक्त किया। उन्होंने बताया कि पंचायत वासियों ने खिलाडि़यों को अपने घरों में ठहरने व नहाने धोने की व्यवस्था कर स्कूल प्रशासन व आयोजन समिति का जो सहयोग किया है उसके लिए वह साधा उनके आभारी रहेंगे।

You might also like