कमरूनाग में उमड़ा आस्था का सैलाब

गोहर—बड़ा देव कमरूनाग का दो दिवसीय सरानाहुली मेला शुक्रवार को आरंभ हो गया। दोपहर बाद रोहांडा, जबाल, धंग्यारा व चच्योट जैसे चारों स्थानों से लगी वाहनों की लंगीरे देखते ही लग रहा था कि कमरूनाग के प्रति लोगों की आस्था निरंतर बढ़ती जा रही है। शुक्रवार सायं हजारों की संख्या में आए श्रद्धालुओं ने रई व तोष जैसे विशाल पेड़ों व खुले आसमान की छत के नीचे रात भर भजन-कीर्तन करके श्रीदेव कमरूनाग की खूब जय-जयकार की। बड़ादेव के कारिंदे शनिवार तड़के परंपरा के अनुसार देवता की पिंडी की विधिवत पूजा-अर्चना करने के बाद मेले में उमड़ी लोगों की अथाह भीड़ को मन्नतंे मांगने व पूर्ण हो जाने के बाद झील में सोना-चांदी के आभूषणों व नकदी चढ़ाने की अनुमति प्रदान करंेगे। तदोपरांत श्रद्धालु मन्नत के रूप में देवता से मांगे गए पुत्रों के मुंडन संस्कार की प्रक्रिया शुरू करंेगे। उल्लेखनीय है कि बड़ादेव कमरूनाग के इस दो दिवसीय मेले में प्रदेश व बाहर के एक लाख से अधिक श्रद्धालु यहां देवता की प्राचीन पिंडी के समक्ष जहां एक ओर मन्नतंे मांगते हंै, वहीं दूसरी ओर पूर्ण हुई मन्नतों के बाद लोग यहां की ऐतिहासिक झील में सोना-चांदी के आभूषणों सहित नकदी भी चढ़ाते हैं। थाना प्रभारी गोहर मनोज वालिया के अनुसार मेले में कानून-व्यवस्था व शांति बनाए रखने के लिए पुलिस प्रशासन ने गोहर थाना सहित रिजर्व बटालियन पंडोह से लगभग 35 जवान तैनात किए हैं। जिसमें एएसआई नारायण लाल को मेला अधिकारी नियुक्त किया गया है।

You might also like