कर्म चंद महासचिव, नंद लाल आचार्य वरिष्ठ उपाध्यक्ष

हमीरपुर —प्रदेश अनुसूचित जाति जनजाति व अन्य पिछड़ा वर्ग कर्मचारी कल्याण महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष एवं राष्ट्रीय महासचिव ने प्रदेश इकाई का पुनर्गठन किया है। पुनर्गठन इसलिए किया है कि महासंघ द्वारा निर्वाचित प्रदेश महासचिव तथा प्रदेश उपाध्यक्ष एवं महिला प्रकोष्ठ की प्रदेशाध्यक्ष पिछले महीने सेवानिवृत्त हो गए थे। अतः उन पदों को भरने के लिए प्रदेशाध्यक्ष ने प्रदेश इकाई का ही पुनर्गठन किया है तथा मजबूत एवं सशक्त नेताओं को मुख्य श्रेणी में लाया गया है। इसके तहत महासचिव सुरेश चौधरी के सेवानिवृत्त होने के बाद उस जगह पर कर्म चंद हमीरपुर को प्रदेश का महासचिव नियुक्त किया गया है। इसके साथ ही नंद लाल आचार्य बिलासपुर को प्रदेश का वरिष्ठ उपाध्यक्ष तथा राजेंद्र कुमार बंसल शिमला को प्रदेश उपाध्यक्ष, बोधराज हमीरपुर को प्रदेश कोषाध्यक्ष, शरद चंद्र सिरमौर को संयुक्त सचिव, सफल डोगरा हमीरपुर को कार्यालय सचिव, सत्येंद्र कुमार सोलन को मुख्य संगठन सचिव, दौलत राम मंडी को संगठन सचिव, राकेश वाल्मीकि कांगड़ा को सचिव, राजीव चौधरी चंबा को प्रदेश मुख्य सलाहकार, अविनाश चौधरी कांगड़ा को सलाहकार, इंजीनियर अशोक कुमार ऊना को मुख्य संरक्षक, ईश्वर राही नाहन को संरक्षक, डीडी कश्यप कुल्लू को प्रवक्ता, रमेश बंगा ऊना को प्रदेश संयोजक, जितेंद्र बोध एडवोकेट माननीय सर्वोच्च न्यायालय को कानूनी सलाहकार, केसी भाटिया एडवोकेट, अनूप भाटिया एडवोकेट एवं राजीव सहगल एडवोकेट को प्रदेश कानूनी सलाहकार नियुक्त किया गया। इसके अलावा प्रदेश कार्यकारिणी में विक्रम सिंह हमीरपुर, सुनील कुमार अंब, देशराज हमीरपुर, दीपक कुमार शिमला, अमरनाथ बिलासपुर, नर्मदा देवी सुंदरनगर, इंद्र सिंह मंडी, अविनाश चौधरी धर्मशाला, अरुण चौधरी हमीरपुर, कमल हमीरपुर, कृष्ण चंद हमीरपुर को प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य बनाया गया। राष्ट्रीय प्रतिनिधियों में ओंकार सिंह भाटिया, हरी राम भारद्वाज बग्गा बिलासपुर, नंद लाल आचार्य बिलासपुर, रमेश बंगा ऊना, उत्तम चंद हमीरपुर को बनाया गया। ओंकार सिंह भाटिया ने बताया कि महिला प्रकोष्ठ में रेणु बाला बिलासपुर को अध्यक्ष बनाया गया है, जबकि मीना देवी को उपाध्यक्ष, महिमा देवी को महामंत्री बनाया गया है। इसके अलावा अति शीघ्र महासंघ के प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक हमीरपुर में आयोजित की जाएगी, जिसमें प्रदेश के सभी पदाधिकारी भाग लेंगे। इसके अलावा प्रदेश को चार संभागों में बांटने तथा उनमें संगठन प्रमुख लगाने का भी प्रस्ताव पारित किया जाएगा। भाटिया ने बताया कि अनुसूचित जाति-जनजाति तथा अन्य पिछड़ा वर्ग के कर्मचारियों की सभी पदोन्नति संबंधी, नियुक्ति संबंधी तथा एसीआर संबंधी समस्याओं को शिक्षा मंत्री तथा मुख्यमंत्री के समक्ष उठाया जाएगा।

You might also like