काम दो, नहीं तो एम्स के गेट के बाहर प्रदर्शन

बिलासपुर—फोरलेन का काम अचानक बंद होने से बिलासपुर के नौजवान बेरोजगार हो गए हैं। लोन की किस्तों की अदायगी समय रहते न होने की वजह से अब उनकी गाडि़यां बैंक वालों ने उठा ली। हालांकि कुछ लोगों ने बड़ी मुश्किल से अपनी गाडि़यों को बचाया है। बड़ी मुश्किल से किस्तों की अदायगी की जा रही है। चूंकि एम्स का काम शुरू हुआ है, तो निर्माता कंपनी पंजाब व अन्य जिलों से टिप्पर मंगवा कर रेत-बजरी की ढुलाई का काम करवा रही है, जबकि बिलासपुर के लोगों को काम नहीं मिल पा रहा, जिसे कदापि सहन नहीं किया जाएगा। यह बात टिप्पर सोसायटी के प्रधान नरेश शर्मा और महासचिव चंदन चंदेल ने कही। उन्होंने कहा कि परिवहन टिप्पर सोसायटी को आईएल एंड एफएस फोरलेन में रेत, बजरी तथा अन्य सामान की ढुलाई का कार्य कराया जाता था, लेकिन अब काम ठप है। मुख्यमंत्री व केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर को जिलाधीश बिलासपुर के माध्यम से ज्ञापन भेजकर मांग की है कि 24 जून तक यदि बिलासपुर की गाडि़यों को काम नहीं दिया गया, तो कोठीपुरा में एम्स के गेट के बाहर प्रदर्शन किया जाएगा तथा बाहर की गाडि़यों को रोका जाएगा। सरकार से मांग की गई है कि ढुलाई का कार्य सोसायटी और यूनियन के माध्यम से कराया जाए। एसीसी फैक्टरी बरमाणा में भी टिप्पर तथा बल्कर सोसायटी के माध्यम से ढुलाई का कार्य कराया जाए। बरमाणा ट्रक आपरेटर सोसायटी व भूतपूर्व सैनिक में करीब 4000 के लगभग ट्रक काम कर रहे हैं, जिनको राख की ढुलाई का कार्य नहीं मिल रहा है। मात्र 3-4 सरमायेदार लगभग 700 बल्कर राख ढुलाई का कार्य एसीसी कंपनी की मिलीभगत से कर रहे हैं, जो 4000 ट्रक आपरेटरों और लगभग 200 टिप्पर आपरेटर  के युवाओं के रोजगार के ऊपर कुंडली मारकर बैठे हैं। उन्होंने सीएम व केंद्रीय राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर से मांग की है कि उनके ट्रकों बल्करों और टिप्पर जो बाकायदा सोसायटी एक्ट के तहत पंजीकृत हैं, काम दिया जाए और अनधिकृत बल्कर को हटाया जाए।

You might also like