काम पर लौट आओ, नहीं तो नौकरी भूल जाओ

हमीरपुर—एनआईटी हमीपुर में हड़ताल पर डटे कर्मियों को कंपनी ने दो टूक कहा है कि जल्द काम पर लौट आओ नहीं तो नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा। कंपनी इनकी जगह नए कर्मचारियों की भर्ती कर सकती है। रविवार को कंपनी के ब्रांच मैनेजर जतिंद्र सिंह एवं एनआईटी के असिस्टेंट रजिस्ट्रार कुमार सौरभ ने कहा कि सफाई कर्मचारियों को किसी भी बात के लिए प्रताडि़त नहीं किया जाता। जितेंद्र सिंह ब्रांच हैड इंप्रेशन सर्विसेज ने कहा कि ट्रांसफर नियमानुसार संभव है। वर्कर्ज की ट्रांसफर राज्य के अंदर कहीं भी की जा सकती है। हालांकि उन्होंने माना कि राज्य से बाहर इनकी ट्रांसफर नहीं की जा सकती। मोहाली में उनका मुख्य कार्यालय है, यहां कर्मचारियों को बुलाया गया था। उन्होंने बताया कि अभी तक एक ही कर्मचारी के ट्रांसफर आर्डर निकाले गए हैं। एनआईटी हमीरपुर में चार दिन से सफाई कर्मचारियों द्वारा नियोक्ता कंपनी के खिलाफ की जा रही हड़ताल का मामला गरमा गया है। जितेंद्र सिंह ने कहा कि वर्करों द्वारा की गई हड़ताल गैर कानूनी है। हड़ताल को लेकर सफाई कर्मचारियों ने कोई नोटिस नहीं दिया। उन्होंने स्पष्ट किया कि वह पिछले तीन दिन से हमीरपुर में ही हैं, लेकिन कोई बातचीत के लिए उनके पास नहीं आया। शनिवार को मुद्दे को सुलझाने के लिए मदन, नरेश, बलवीर, सुरेश, पवन, सरिता और सरोज सहित 10 लोग बातचीत के लिए आए थे। उन्होंने दावा किया कि वेतन का भुगतान हर माह तय नियमों के तहत हो रहा है। बोनस का भुगतान 2017-18 के लिए किया जा चुका है। बढ़े हुए वेतन का एरियर भी दिया जाएगा। वर्करों से हुई बैठक में ट्रांसफर के मुद्दे को छोड़कर अन्य सभी मांगों को लेकर सहमति बन गई है। उन्होंने कहा कि सफाई कर्मचारी दैनिक वेतनभोगी न होकर मासिक वेतनभोगी हैं। उन्हें करीब दस हजार रुपए मासिक वेतन अदा किया जा रहा है। अगर वर्कर सोमवार सुबह तक काम पर लौट आते हैं तो उनकी सेवाएं जारी रखी जाएंगी, अन्यथा नई भर्ती के लिए कंपनी तैयार है। उन्होंने कहा कि कंपनी ने बातचीत का दरवाजा खुला रखा है, क्योंकि हड़ताल किसी समस्या हल नहीं है।

एनआईटी मुख्य गेट पर मीडिया कर्मियों से बदतमीजी

एनआईटी के मुख्य द्वार पर मीडिया कर्मियों से सिक्योरिटी द्वारा बदतमीजी पर असिस्टेंट रजिस्ट्रार कुमार सौरभ ने कहा कि इसके बारे में जवाब तलब किया जाएगा। जिस कंपनी की सिक्योरिटी है, उसे इसके बारे में अवगत करवाया जाएगा। संस्थान में नियमानुसार प्रवेश पर कोई प्रतिबंध नहीं है। जाहिर है कि एनआईटी के मुख्य द्वार पर मीडिया कर्मचारियों को रोका गया था। उन्हें अंदर जाने से सिक्योरिटी ने साफ मना कर दिया। मीडिया कर्मचारी वर्कर्ज की हड़ताल से संबंधित जानकारी जुटाने के लिए एनआईटी पहुंचे थे।

You might also like