कालाअंब में चाईल्ड लाइन ने रेस्क्यू किए चार बाल मजदूर

नाहन—जिला सिरमौर के औद्योगिक क्षेत्र कालाअंब में उद्योग प्रबंधन द्वारा कानूनों को ताक पर रखकर बाल श्रमिकों से घंटों काम लिए जाने का मामला प्रकाश में आया है। कालाअंब क्षेत्र में एक पैकेजिंग उद्योग में चाईल्ड लाइन को बाल मजदूरों से काम करवाने की शिकायत मिली थी, जिसके बाद गाइड लाइन की टीम ने उद्योग में दस्तक दी तथा पुलिस की मौजूदगी में उद्योगों में बाल मजदूरों को काम करते हुए हिरासत में लिया है। इस सिलसिले में  उद्योग प्रबंधन के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई अमल में आरंभ कर दी गई है। जानकारी के मुताबिक कालाअंब स्थित एक पैकेजिंग उद्योग में नाबालिग बच्चों से काम करवाया जा रहा था। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। चाईल्ड लाइन व सीडब्ल्यूसी ने बच्चों व परिजनों की काउंसलिंग शुरू कर दी है। जानकारी के मुताबिक कालाअंब में पैकेजिंग उद्योग में नाबालिग बच्चों से काम करवाया जा रहा था। इनमें एक बच्ची भी शामिल थी। चाईल्ड लाइन की टीम ने सभी बच्चों को पुलिस की मदद से रेस्क्यू कर लिया गया है। हैरानी की बात तो यह है कि सिरमौर जिला के श्रम विभाग को भी इसकी सूचना नहीं मिली। बताया जा रहा है कि इनमें एक बच्चा यूपी से है तो बाकी के तीन हिमाचल प्रदेश के बताए जा रहे हैं। उधर, इस संबंध में जब चाईल्ड लाइन की काउंसलर विनिता ठाकुर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि चाईल्ड लाइन के माध्यम से बाल मजदूरी की खबर मिली थी, तुरंत कार्रवाई करते हुए कालाअंब चौकी से पुलिस की मदद ली गई।

You might also like