किन्नौर में 62 करोड़ की जनजातीय उपयोजना

रिकांगपिओ —वित्तीय वर्ष 2019-20 की पहली परियोजना सलाहकार समिति की बैठक गुरुवार को रिकांगपिओ के सम्मेलन भवन में आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता अध्यक्ष परियोजना सलाहकार समिति एवं उपायुक्त किन्नौर गोपाल चंद ने की। बैठक में उपायुक्त ने पिछले वित्तीय वर्ष 2018-19 की वित्तीय एवं भौतिक उपलब्धियों की समीक्षा की। इस दौरान वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए विभागवार कार्य योजना पर भी चर्चा की गई। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि पिछले वित्त वर्ष में किन्नौर के विकास पर लगभग 82.71 करोड़ रुपए विभिन्न योजनाओं के तहत खर्च किए गए, जिसमें 62.35 करोड़ जनजातीय उपयोजना के अंतर्गत 15.42 करोड़ सीमा क्षेत्र विकास निधि के तहत व 4.93 करोड़ रुपए विशेष केंद्रीय सहायता के अंतर्गत खर्च किए गए हंै। उन्होने कहा कि पिछले वित्त वर्ष में सभी विभागों का वित्त उपलब्धि 100 प्रतिशत रहा। उन्होंने सभी विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वें अपने-अपने विभाग से संबंधित कार्य को समय रहते पूर्ण करंे, क्योंकि किन्नौर में 12 महीने कार्य करना संभव नहीं है। यहां कार्य की अवधि केवल कुछ महीने ही होती है, इसलिए इस समित अवधि में ही अपना पूरे वर्ष का कार्य पूर्ण करना निश्चित करे। बैठक में  उपाध्यक्ष परियोजना सलाहकार समिति किन्नौर एवं विधायक किन्नौर जगत सिहं नेगी, उपाध्यक्ष हिमाचल प्रदेश वन निगम सूरत नेगी, जिला परिषद अध्यक्ष टाशी यंगजेन, परियोजना अधिकारी एकीकृत जनजातीय विकास एवं उपमंडलाधिकारी ना. कल्पा सुरेंद्र ठाकुर,  जिला भाजपा अध्यक्ष विनय नेगी व विभिन्न विभागों के विभागाध्यक्ष व परियोजना सलाहकार समिति के गैर सरकारी सदस्य इस अवसर पर उपस्थित थे। 

You might also like