कुपवी में देखते ही नाशपाती धड़ाम

नेरवा—बुधवार रात आफत बनकर आए तूफान ने ऐसी तबाई मचाई कि बागवान त्राहि-त्राहि कर उठे। करीब बीस मिनट तक चले इस तेज तूफान ने बम्पर फसल की उम्मीद लगाए बैठे बागबानों के सपनों को बुरी तरह तोड़कर रख दिया है। रात नौ बजे आये तूफान से नेरवा की सभी 22 पंचायतों सहित तहसील कुपवी की कुछ पंचायतों में सेब और नाशपाती की फसल को व्यापक नुकसान पहुंचा है। तूफान से हुई तबाही का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सेब और नाशपाती की 80 प्रतिशत फसल झड़कर बागीचों में बिखर गई। लोगों के बागीचे इस झड़ी हुई फसल से पूरे के पूरे भर गए हैं। कई जगह तो बागीचों में तूफान ने इस कद्र कहर बरपाया कि सेब के फलों से लदे पेड़ जड़ से उखड़ कर धराशाई हो गए है। सबसे अधिक नुक्सान ग्राम पंचायत नेरवा, टेलर, किरण, धनत, टिकरी, खूंद,  न्योल, चइंजन, केदी, पौलिया, देइया, रुस्लाह, पुजारली, हलाऊ, मुंडली, मधाना, थरोच, भराणू, पबाण, बौर, बिजमल, मानु भाविया आदि पंचायतों में सेब, नाशपाती और अन्य गुठलीदार फलों को सर्वाधिक नुक्सान हुआ है। ग्राम पंचायत बिजमल में पूर्व प्रधान दिनेश चौहान के चार एवं ओम प्रकाश चौहान के फलों से लदे पांच सेब के पौधे जड़ से ही उखड़ गए है। उधर, ग्राम पंचायत किरण, धनत, ठेकरा, बागना, देइया, मोसलन आदि में भी सेब के पौधे टूटने के समाचार प्राप्त हुए हैं।

You might also like