केंद्रीय सूची में आएंगी प्रदेश की जड़ी-बूटियां

प्रदेश सरकार ने शुरू की कवायद, पर्यावरण मंत्रालय को लिखा पत्र

शिमला – हिमाचल की जड़ी-बूटियों को केंद्रीय सूची में शामिल करने के लिए राज्य सरकार ने कवायद शुरू कर दी है। इसके लिए प्रदेश सरकार ने केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय को पत्र लिखा है। हालांकि ट्राइबल एरिया में जड़ी-बूटियों की अपार संभावनाएं हैं, लेकिन उसे बेचने पर रोक लगी है। जिला किन्नौर और लाहुल-स्पीति की जड़ी-बूटियों को केंद्रीय सूची में शामिल करने के लिए वन विभाग ने मोदी सरकार को पत्र लिखा है। अभी तक ट्राइबल एरिया की जड़ी-बूटियां केंद्रीय सूची में शामिल नहीं हैं। केंद्रीय सूची में शामिल होने के बाद इन क्षेत्रों के बेरोजगारों को स्वरोजगार का भी बेहतर मौका मिल सकता है। ट्राइबल एरिया में बेशकीमती जड़ी-बूटियां निकाली तो जा रही हैं, लेकिन गुपचुप तरीके से निकाल औने-पौने दामों में बेचा जा रहा है। प्रदेश के जनजातीय क्षेत्रों की जड़ी-बूटियों को केंद्रीय सूची में शामिल करने से इसके लिए केंद्र सरकार से करोड़ों रुपए की मदद मिलेगी।

You might also like