कैपेक्स योजना से नालागढ़ में नहीं रहेगी बिजली की टेंशन

नालागढ़—विद्युत उपमंडल नालागढ़ के तहत बिजली का ढांचा सुदृढ़ कैप्टिल एक्सपेंडिचर प्लान के तहत अपग्रेड हो गया है। 3.44 करोड़ की धनराशि से क्षेत्र में 26 नए ट्रांसफार्मर स्थापित कर लिए है, जबकि 21 ट्रांसफार्मरों को अपग्रेड किया गया है। इसके अलावा 10 किलोमीटर हाईटेंशन, जबकि 8.55 किलोमीटर लो टेंशन तारों को भी अपग्रेड करके आवश्यकतानुसार एचटी व एलटी लाईनें बिछाई जा रही है। विद्युत बोर्ड के तहत 80 फीसदी कार्य मुक मल हो चुका है और 25 नए ट्रांसफार्मरों सहित 19 ट्रांसफार्मरों को अपग्रेड कर दिया गया है, जबकि एचटी की करीब तीन किमी लाइन बिछानी शेष है। बोर्ड का कहना है कि जल्द ही इस कार्य को मुक मल कर दिया जाएगा। जानकारी के अनुसार विद्युत बोर्ड नालागढ़ के तहत जहां शहर में इंटरग्रेटिड पावर डिवेलपमेंट स्कीम के तहत 3.41 करोड़ से शहर का विद्युत सिस्टम अपग्रेड हो रहा है, वहीं ग्रामीण क्षेत्रों के लिए दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण विद्युतीकरण योजना के तहत 2.11 करोड़ की धनराशि खर्च की जा रही है। इसके अलावा विद्युत बोर्ड द्वारा समूचे क्षेत्र का विद्युत ढांचा मजबूत बनाने के लिए वार्षिक प्लान के तहत 3.44 करोड़ की धनराशि खर्च कर रहा है। कैपेक्स योजना के तहत किए जाने वाले कामों में लो वोल्टेज जैसी समस्या का हल होगा, वहीं ट्रांसफार्मरों व हाई व लो टेंशन तारों को अपग्रेड किया गया है, ताकि लोगों को विद्युत की कोई समस्या न रहे। बता दें कि क्षेत्र में हुए औद्योगिकरण की बयार के बाद नालागढ़ उपमंडल में स्थानीय लोगों सहित बाहरी राज्यों व हिमाचल के अन्य क्षेत्रों के लोग यहां रोजी रोटी की तलाश में आए है, जो विद्युत कंज्यूमर भी है। क्षेत्र में बढ़ती आबादी के साथ बिजली की कैपेसिटी बढ़ गई है और आए दिन जहां लोड बढ़ जाने के कारण बिजली चली जाती है, वहीं लो वोल्टेज जैसी समस्या भी पैदा हो जाती है। गर्मियों में लोगों को दो चार होना पड़ता है। ऐसे में नए ट्रांसफार्मर लगने और पुराने ट्रांसफार्मरों का आधुनिकीकरण और एचटी व एलटी लाईनों की कैपिसिटी बढ़ाने से लोगों की समस्या का स्थायी समाधान होगा। विद्युत विभाग नालागढ़ के एक्सईएन अमित गुप्ता ने कहा कि कैपेक्स योजना के तहत दो तीन ट्रांसफार्मरों सहित 2-3 किलोमीटर एचटी लाईन बिछाने का काम शेष है, जिसे जल्द मुक मल कर दिया जाएगा।

You might also like