कोई भी समस्या है, तो सरकार को घुमाएं फोन

टूटीकंडी में खुला कॉल सेंटर, सीएम करेंगे उद्घाटन

शिमला —प्रदेश सरकार आम आदमी की समस्या के निदान के लिए एक कॉल पर उपलब्ध रहेगी और एक फोन पर शिकायतों एवं समस्याओं का समाधान हो जाएगा। सरकार ने राज्य में ऐसी सुविधा स्थापित कर दी है। मुख्यमंत्री बजट घोषणा के अनुरूप मुख्यमंत्री हिम-सेवा (हेल्पलाइन) को जनता की सहूलियत के लिए शीघ्र शुरू करने जा रहे हैं।  इस सुविधा का कार्यालय (कॉल सेंटर) शिमला के टुटीकंडी में खोल दिया गया है, जिसका विधिवत शुभारंभ किया जाएगा। प्रदेश सरकार इस हेल्पलाइन का टोल फ्री नंबर जारी करेगी और उस नंबर पर कॉल करके अपनी शिकायत एवं समस्या को दर्ज करवा सकेगी। इसके उपरांत आमजन यह भी जान सकेंगे कि उनके द्वारा दर्ज की गई शिकायत पर क्या कार्रवाई हो रही है। अहम बात यह है कि शिकायत दर्ज होते ही ‘मुख्यमंत्री हिम-सेवा’ में तैनात कर्मचारियों द्वारा संबंधित अधिकारी को समाधान के लिए भेज दिया जाएगा। सभी अधिकारियों को शिकायतों का समय पर निवारण करना होगा, जिसके लिए समयावधि तय होगी।

सात मार्च को जयराम ठाकुर ने रखी थी नींव

मुख्यमंत्री ने सात मार्च को टूटीकंडी स्थित आईएसबीटी पार्किंग परिसर में ‘मुख्यमंत्री हिम-सेवा हेल्पलाइन’ कार्यालय परिसर की आधारशिला रखी थी। अब इसका निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। कॉल सेंटर में तैनात कर्मचारी लोगों द्वारा दर्ज करवाई गई शिकायतों को कम्प्यूटर में रिकॉर्ड करने के साथ-साथ संबंधित अधिकारियों एवं विभाग को भेजेंगे। सीएम के सख्त निर्देशों के तहत अधिकारियों को शिकायतों का निपटारा समय पर करना होगा।

मुख्यमंत्री और मंत्री खुद करेंगे बात

खुद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और मंत्रिमंडल के सदस्य भी प्रत्येक माह दूरभाष के माध्यम से जनता से उनकी शिकायत के निवारण संबंधी बात करेंगे। जिन-जिन लोगों की शिकायत होगी, वह बताएंगे कि समाधान हुआ या नहीं।

सुबह सात से दस बजे तक मिलेगी सुविधा

हेल्पलाइन के माध्यम से जनमंच में प्राप्त शिकायतों की प्रगति की निगरानी भी होगी। हेल्पलाइन सुबह सात से रात 10 बजे तक क्रियाशील रहेगी। इससे सरकार के कार्य में भी पारदर्शिता सुनिश्चित होगी। मुख्यमंत्री ने सभी विभागों को आदेश दिए हैं कि वे इस प्रणाली को सफल बनाने में सहयोग दें।

चार स्तरीय शिकायत प्रणाली

हेल्पलाइन के साथ पंजीकृत कॉल को सिस्टम द्वारा स्वयं ही संबंधित विभाग को सौंपा जाएगा। इसमें चार स्तरीय शिकायत प्रणाली की योजना बनाई गई है। स्तर-1 पर खंड, स्तर-2 पर तहसील, स्तर-3 पर जिला तथा स्तर-4 पर राज्य है। सभी अधिकारियों को समय सीमा में शिकायत का निवारण करना होगा। शिकायतकर्ता की संतुष्टि के बाद ही शिकायत बंद होगी।

You might also like