गुणकारी है घड़े का पानी

लोगों का मानना है कि मिट्टी की भीनी-भीनी खुशबू के कारण घड़े का पानी पीने का आनंद और इसका लाभ अलग है। दरअसल, मिट्टी में कई प्रकार के रोगों से लड़ने की क्षमता पाई जाती है। विशेषज्ञों के अनुसार मिट्टी के बरतनों में पानी रखा जाए, तो उसमें मिट्टी के गुण आ जाते हैं…

पीढि़यों से भारतीय घरों में पानी स्टोर करने के लिए मिट्टी के बरतन यानी घड़े का इस्तेमाल किया जाता है। आज भी कुछ लोग ऐसे हैं जो इन्हीं मिट्टी से बने बरतनों में पानी पीते है। लोगों का मानना है कि मिट्टी की भीनी-भीनी खुशबू के कारण घड़े का पानी पीने का आनंद और इसका लाभ अलग है। दरअसल, मिट्टी में कई प्रकार के रोगों से लड़ने की क्षमता पाई जाती है। विशेषज्ञों के अनुसार मिट्टी के बरतनों में पानी रखा जाए, तो उसमें मिट्टी के गुण आ जाते हैं। इसलिए घड़े में रखा पानी हमें स्वस्थ बनाए रखने में अहम भूमिका निभाता है। जानिए घड़े का पानी पीने के बेशकीमती फायदे।

बढ़ाए रोग-प्रतिरोधक क्षमता

यदि घड़े का पानी नियमित रूप से पीया जाए, तो रोग-प्रतिरोधक क्षमता यानी रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है। यदि प्लास्टिक की बोतलों में पानी स्टोर करते हैं, तो प्लास्टिक पानी को अशुद्ध कर देता है। यह शरीर के लिए हानिकारक है।

पीएच बैलेंस

घड़े का पानी पीने का एक लाभ यह भी है कि इसमें मिट्टी के क्षारीय गुण विद्यमान होते है। क्षारीय पानी अम्लता के साथ प्रभावित होकर उचित पीएच संतुलन प्रदान करता है। इस पानी को पीने से एसिडिटी पर अंकुश लगाने और पेट के दर्द से राहत पाने में मदद मिलती हैं।

त्वचा के लिए फायदेमंद

मिट्टी के बरतन में रखा पानी पीने से फोड़े, फुंसी, मुंहासे और अन्य त्वचा संबंधित कई रोग दूर हो जाते हैं। त्वचा भी साफ और दमकने लगती है।

गले को ठीक रखे

आमतौर पर हमें गर्मियों में ठंडा पानी पीने की तलब होती है और हम फ्रिज से ठंडा पानी ले कर पीते हैं। ठंडा पानी हम पी तो लेते हैं, लेकिन बहुत ज्यादा ठंडा होने के कारण यह गले और शरीर के अंगों को एक दम से ठंडा कर शरीर को बहुत बुरा प्रभावित करता है। गले की कोशिकाओं का ताप अचानक गिर जाता है, जिस कारण व्याधियां उत्पन्न होती है। गले में खराबी और ग्रंथियों में सूजन आने लगती है और शुरू होता है शरीर की क्रियाओं का बिगड़ना। जबकि घड़े का पानी गले पर सूदिंग प्रभाव देता है।

कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित करे

घड़े का पानी ब्लड प्रेशर को तो नियंत्रित करता ही है साथ ही कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में सहायक है।

एंटीबैक्टीरियल गुण

मिट्टी के बरतन में रखा पानी अपने एंटीबैक्टीरियल गुणों के कारण डायरिया,पीलिया, डायसेंट्री जैसी बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करता है।

एंटी इंफ्लेमेंटरी गुण

शोधों से पता चला है कि मिट्टी में एंटी इंफ्लेमेंटरी गुण होते हैं। इसलिए मिट्टी से बने पात्र में रखे पानी को पीने से शरीर में दर्द, ऐंठन या सूजन जैसी समस्याओं के उपचार में काफी मदद मिलती है।

हर मौसम में फायदेमंद

घड़े के पानी का प्रयोग हर मौसम में कर सकते हैं। घड़े के पानी में बहुत से औषधीय गुण होते हैं।

You might also like